साइना नेहवाल की बायोपिक के निर्माताओं ने वसई में बनाया मनिला

जनवरी 2020 तक ख़त्म हो जाएगी परिणीती चोपड़ा अभिनीत साइना नेहवाल की बायोपिक।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल के जीवन और करियर पर आधारित आने वाली बॉलीवुड बायोपिक की शूटिंग जनवरी 2020 में ख़त्म हो जाएगी, ये कहा फ़िल्म के निर्देशक अमोल गुप्ते ने।

इस फ़िल्म में नेहवाल के बैडमिंटन करियर को दिखाया जाएगा, और एक प्रोफ़ेशनल शटलर बनने के बाद से अब तक की उनकी सभी अहम उपलब्धियों का भी फ़िल्मांकन किया जाएगा। जिसमें सन 2000 में उनकी कुछ यादगार जीतें भी शामिल हैं, मनिला में हासिल की गई उनके करियर की पहली चैंपियनशिप जीत, 2015 में महिला रैंकिंग में सर्वोच्च स्थान, इन सब के अलावा साइना के करियर से जुड़े और भी कई कीर्तिमानों को इस फ़िल्म में दिखाया जाएगा।

एक कठिन परीक्षा

अमोल गुप्ते और उनकी टीम के लिए साइना नेहवाल की ज़िंदगी पर फ़िल्म बनाना किसी चुनौती से कम नहीं है।

अदाकारा श्रृद्धा कपूर जिन्हें शुरुआत में साइना के किरदार के लिए चुना गया था, उन्होंने 2018 में गुप्ते के साथ शूटींग शुरू भी कर दी थी लेकिन इसके बाद उनकी जगह साइना की भूमिका में परिणीती चोपड़ा के नाम पर अंतिम मुहर लगी

इसी नवंबर की शुरुआत में चोपड़ा को फ़िल्म की शूटींग के दौरान चोट भी लगी थी, लेकिन अब वह पूरी तरह से ठीक हैं और शूटींग के लिए उपलब्ध भी हैं, फ़िल्म जनवरी तक ख़त्म हो जाने की उम्मीद है।

साइना की बड़ी जीतों को फिर से तैयार करना

निर्देशक अमोल गुप्ते साइना नेहवाल के शानदार करियर के साथ पूरा इंसाफ़ करने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं। निर्माता और उनकी पूरी टीम ने मिलकर मुंबई से क़रीब एक छोटे से शहर वसई में 12 कोर्ट बनवाए हैं, जो कई अंतर्राष्ट्रीय स्तर के स्टेडियम की याद दिला रहे हैं।

‘’हम उनके अहम मैचों को फ़िल्मा रहे हैं, हमने अब तक पांच से ज़्यादा कोर्ट डिज़ाइन को बदल दिया है। हर कोर्ट ऐसा मालूम पड़ता है कि किसी दूसरे देश में है, ताकि हम उनके क्ज़ेच रिपल्बिक से लेकर मनिला में हुए मैचों को भी फ़िल्मा सकें।‘’ एक प्रेस वार्ता के दौरान अमोल गुप्ते ने ये बातें कहीं।

‘’हम लोग हर मैच (अहम और यादगार) दो दिनों में शूट कर रहे हैं, और फिर रातभर काम करते हुए अगले मैचों के लिए कोर्ट को तैयार करते हैं।‘’

नेहवाल की बायोपिक भारतीय ओलंपियन के करियर पर बनी तीसरी फ़िल्म होगी, इससे पहले धावक मिलखा सिंह और मुक्केबाज़ एम सी मैरी कॉम पर भी बायोपिक बन चुकी है।