ओलंपिक में जाने को लेकर मनु भाकर घबराहट के साथ उत्सुक  

सर्वश्रेष्ठ शूटर टोक्यो में भारत के लिए पदक की उम्मीद में से एक हैं और तीन स्पर्धाओं में मुकाबला करेंगी। 

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

मनु भाकर (Manu Bhaker) को आगामी टोक्यो ओलंपिक के लिए नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) ने तीन स्पर्धाओं में शामिल किया है। वो 10 मीटर एयर पिस्टल, 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल और 10 मीटर एयर पिस्टल मिश्रित स्पर्धाओं में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी।

खेल में निरंतरता के लिए उन्हें पुरस्कृत किया गया है। युवा निशानेबाज को लगता है कि ओलंपिक में जाने को लेकर उस पर कोई दबाव नहीं है।

मनु भाकर ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, "मैं पिछले तीन सालों से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तीन स्पर्धाओं में शूटिंग कर रही हूं। इसलिए वहां मुझ पर कोई दबाव क्यों होगा?" 

"मुझे पहले से पता था कि मुझे तीन स्पर्धाओं के लिए चुना जाएगा, लेकिन NRAI की पुष्टि ने संशय को दूर कर दिया है। मुझे लगता है कि यह पिछले तीन सालों में मेरे बेहतर प्रदर्शन का परिणाम है। मुझ पर विश्वास जताने के लिए चयन समिति और NRAI के अध्यक्ष की शुक्रगुजार हूं।”

हाल ही में सम्पन्न हुए ISSF विश्व कप में 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा में चिंकी यादव (Chinki Yadav) ने स्वर्ण पदक जीता, लेकिन उनको रिजर्व में रखा गया। जबकि, भाकर ने क्वालीफाई किया था।

उन्होंने कहा, "मैंने 10 मीटर और 25 मीटर के ट्रायल में पहली पोजीशन बनाए रखी। मैं अन्य शूटरों की तुलना में बेहतर स्कोर की शूटिंग कर रही हूं। मुझे एशियाई चैंपियनशिप में दूसरों के लिए रास्ता बनाना था और न्यूनतम योग्यता स्कोर में शूट करना था, ताकि दूसरों को कोटा (ओलंपिक) के लिए शूटिंग करने का मौका मिल सके।"

शूटिंग रेंज में शूटिंग करते हुए मनु भाकर।

भाकर टोक्यो ओलंपिक एक पदक के साथ खत्म करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं और ओलंपिक से पहले अपने कौशल को बेहतर बनाने के लिए अभ्यास में हर दिन करीब 12 घंटे लगा रही हैं।

हरियाणा की लड़की ने कहा, "मैं सुबह छह बजे उठ जाती हूं और 8:30 बजे रेंज में पहुंच जाती हूं। वहां से 3:30 बजे घर आती हूं। अभ्यास के बाद मनोवैज्ञानिक के साथ शारीरिक सत्र होता है और फिर रात को 9:30 बजे तक मैं बिस्तर पर चली जाती हूं।”  

कोविड-19 महामारी के कारण ओलंपिक गेम्स को एक साल के लिए स्थगित कर दिया था। मनु को लगता है कि इसके कारण मिले अतिरिक्त समय ने उन्हें विकसित होने में मदद की है।

उन्होंने कहा, "गेम्स का एक साल के लिए स्थगित होना सभी के लिए था। मैंने ओलंपिक के लिए बहुत अधिक मानसिक ऊर्जा खर्च की है। हालांकि, एक साल में प्रदर्शन और व्यक्तित्व में बहुत कुछ बदल गया है।”

निष्कर्ष निकालते हुए भाकर ने कहा, "मेरे लिए यह अच्छा रहा है। पिछले एक साल में मेरी शख्सियत में विकास हुआ है। यह निश्चित रूप से मेरे प्रदर्शन मददगार रहा है। मैं ओलंपिक में जाने को लेकर घबराहट के साथ उत्सुक हूं।"