मार्च में मुक्केबाज़ी रिंग में उतरेंगी भारतीय स्टार मुक्केबाज़ एमसी मैरीकॉम

दिग्गज मुक्केबाज़ एमसी मैरीकॉम मार्च में एशियन ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स के बाद से एक्शन से बाहर हैं और अब वो एक साल बाद रिंग में वापसी के लिए तैयार हैं।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

भारतीय दिग्गज मुक्केबाज़ और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता एमसी मैरीकॉम (MC Mary Kom) मार्च में स्पेन के वेलेंसिया में होने वाले बॉक्सम मीट में एक साल बाद पहली बार रिंग में उतरेंगी।

मैरीकॉम को आखिरी बार मार्च 2020 में जॉर्डन के अम्मान में आयोजित एशियाई ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स में रिंग में देखा गया था, जहां उन्होंने खेलों में अपनी दूसरी उपस्थिति के लिए टोक्यो ओलंपिक में एक टिकट पक्की की थी।

1 मार्च से 7 मार्च तक आयोजित होने वाले अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाज़ी टूर्नामेंट बॉक्सम मीट में अब तक टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाले सभी नौ भारतीय मुक्केबाज़ एक्शन में नजर आएंगे।

इस टूर्नामेंट के जरिए मनीष कौशिक भी प्रतिस्पर्धी मुक़ाबले में वापसी करेंगे, जिन्होंने अम्मान में अपने पहले ओलंपिक के लिए क्वालिफाई किया था, लेकिन इस दौरान उन्हें चोट लग गई थी

बॉक्सम में हिस्सा लेने वाले अन्य भारतीय मुक्केबाज़ों में अमित पंघल (Amit Panghal), विकास कृष्ण (Vikas Krishan), आशीष कुमार (Ashish Kumar), सतीश कुमार (Satish Kumar), सिमरनजीत कौर (Simranjit Kaur) लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) और पूजा रानी (Pooja Rani) शामिल हैं।

अमित पंघल ने ईरान की मुक्केबाज़ी लीग में खेलने से इनकार कर दिया और अपने कोच से परामर्श करने के बाद बॉक्सम में प्रतिस्पर्धा करने का फैसला किया। दोनों इवेंट एक ही समय पर आयोजित होंगी।

इन नौ मुक्केबाज़ों के अलावा 14 सदस्यीय दल में मोहम्मद हुसामुद्दीन (Mohammad Hussamuddin), सुमित सांगवान (Sumit Sangwan), संजीत (Sanjeet), मनीषा मौन (Manisha Moun) और जैस्मीन लाम्बोरिया (Jasmine Lamboria) शामिल होंगे।

बॉक्सम में उनकी भागीदारी का मतलब है कि ये 14 भारतीय मुक्केबाज़ बुल्गारिया में होने वाले स्ट्रैंड्जा मेमोरियल में भाग नहीं ले पाएंगे। यूरोप की सबसे पुरानी मुक्केबाज़ी प्रतियोगिता को ध्यान में रखते हुए, स्ट्रैंड्जा मेमोरियल, बॉक्सम से एक सप्ताह पहले अपने 72वें संस्करण का आयोजन करेगा।

हालांकि बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (Boxing Federation of India) के उच्च-प्रदर्शन निदेशक, सैंटियागो नीवा को लगता है कि बॉक्सम में टोक्यो-बाउंड मुक्केबाज़ों के लिए उच्च स्तर की प्रतियोगिता मिलेगी।

हालांकि, स्ट्रैंड्जा मेमोरियल में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए कवींदर बिष्ट (Kavinder Bisht), दीपक (Deepak), अंकुश दहिया (Ankush Dahiaya), दुर्योधन सिंह नेगी (Duryodhan Singh Negi), अंकित खटाना (Ankit Khatana), सचिन कुमार (Sachin Kumar), मंजीत संधू (Manjeet Sandhu) और नवीन कुमार (Naveen Kumar) बुल्गारिया का दौरा करेंगे।