मीराबाई चानू ने क़तर इंटरनेशनल कप में जीता गोल्ड मेडल 

मिराबाई चानू ने ओलंपिक के अवसरों को मजबूत करने के लिए कतर में गोल्ड मेडल जीता।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

जापान के टोक्यो शहर में अगले साल होने वाले ओलंपिक खेलों में भारत की सबसे बड़ी उम्मीदों में से एक साइखोम मीराबाई चानू शुक्रवार को छठे क़तर इंटरनेशनल कप में गोल्ड मेडल जीतने में सफल रहीं। चानू ने मेडल को सुनिश्चित करने के लिए 194 किग्रा का कुल वज़न उठाया। प्रतियोगिता में मिले यह अंक टोक्यो ओलंपिक की अंतिम रैंकिंग के समय उपयोगी साबित होंगे।

पूर्व विश्व चैंपियन भारोत्तोलक ने अपनी पसंदीदा 49 किग्रा वर्ग में आसान जीत दर्ज की और टूर्नामेंट में भारत की झोली में पहला गोल्ड मेडल डालने का काम किया। हालांकि उनका 194 किग्रा उनके व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ 201 किग्रा के करीब नहीं रहा।

2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने वाली चानू, स्नैच-क्लीन और जर्क श्रेणियों में केवल एक ही क्लीन लिफ्ट करने में सफल रहीं।

साइखोम मीराबाई चानू 

कर्णम मल्लेश्वरी और मीराबाई चानू

टूर्नामेंट से पहले, पूर्व विश्व चैंपियन और ओलंपिक ब्रॉन्ज़ मेडल विजेता वेटलिफ्टर कर्णम मल्लेश्वरी ने टोक्यो में चानू से अपनी बेहतर उम्मीदें व्यक्त की। मल्लेश्वरी ने पीटीआई से बात करते हुए कहा, “कोई शक नहीं कि टोक्यो 2020 में मीराबाई चानू अच्छा प्रदर्शन करेंगी। वह पिछले तीन वर्षों से लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। मुझे यकीन है कि वह एक पदक ज़रूर लाएंगी।

रियो 2016 के बाद से मीराबाई

महिलाओं के 48 किग्रा वर्ग में रियो खेलों के लिए क्वालीफाई करने के बावजूद, मणिपुर की यह एथलीट क्लीन एंड जर्क वर्ग में अपने तीनों प्रयासों में असफल रहीं। हालांकि, वह संयुक्त राज्य अमेरिका के अनाहेम में 2017 वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में 48 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक जीतकर खुद को मजबूत करने में सफल रही थीं।

रियो 2016 के बाद से मीराबाई

महिलाओं के 48 किग्रा वर्ग में रियो खेलों के लिए क्वालीफाई करने के बावजूद, मणिपुर की यह एथलीट क्लीन एंड जर्क वर्ग में अपने तीनों प्रयासों में असफल रहीं। हालांकि, वह संयुक्त राज्य अमेरिका के अनाहेम में 2017 वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में 48 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक जीतकर खुद को मजबूत करने में सफल रही थीं। 

उन्होंने 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के लिए एक और गोल्ड मेडल जीता और खेलों के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। चानू बस वहीं नहीं रुकीं, उन्होंने 2019 के एशियन वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में भी मेडल जीता। लेकिन इस बार वह ब्रॉन्ज़ मेडल ही हासिल कर सकीं।

महाद्वीपीय स्तर से आगे बढ़ते हुए चानू ने 2019 वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में अच्छा प्रदर्शन किया, जहां उन्होंने कुल 201 किग्रा (87 किग्रा स्नैच और 114 किग्रा क्लीन एंड जर्क) उठाया। हालांकि, वह अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ के कुल भार के साथ भी चौथे स्थान पर रहीं। 49 किग्रा वर्ग में यह एक नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड साबित हुआ।