मोहम्मद हुसामुद्दीन को कोलोन विश्व कप में कांस्य पदक जीतने से पहले लगी थी 'गंभीर' चोट

हाल ही में समाप्त हुए कोलोन बॉक्सिंग विश्व कप से भारतीय दल ने तीन स्वर्ण सहित जीते कुल नौ पदक

लेखक भारत शर्मा ·

निजामाबाद के बॉक्सर मोहम्मद हुसामुद्दीन ने भी हाल ही में जर्मनी के कोलोन में समाप्त हुए बॉक्सिंग विश्व कप में भारतीय दल द्वारा जीते गए तीन स्वर्ण सहित कुल नौ पदकों में अहम योगदान दिया था। हुसामुद्दीन विश्व कप में 57 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीतकर देश को गौरवान्वित किया। ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में गोल्ड कोस्ट में 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में तीसरे पोडियम स्थान पर पहुंचने के बाद यह उनका पहला बड़ा पदक था।

हालांकि, कोलोन में उनका कांस्य पदक हासिल करने का सफर आसान नहीं रहा। हुसामुद्दीन ने खुलासा किया कि जर्मनी के उमर बाजवा पर उनकी क्वार्टर फाइनल जीत के दौरान उन्हें अपनी बाईं आंख के ऊंपर गंभीर चोट लग गई थी। एच शाल्डोव में एक अन्य जर्मन मुक्केबाज के खिलाफ सेमीफाइनल में उस चोट की वजह से उन्हें खासी परेशानी झेलनी पड़ी और आखिर में उन्हें कांस्य पदक से समझौता करना पड़ा।

उन्होंने कहा कि उनकी आंख के ऊपर लगे कट ने उन्हें सेमीफाइनल में असहज कर दिया था।

कोनोन बॉक्सिंग विश्वकप में विरोधी पर पंच बरसाते बॉक्सर मोहम्मद हुसामुद्दीन

हुसामुद्दीन ने तेलंगाना टुडे को बताया, "मैं अच्छे फॉर्म में था और पहले मैच में जर्मन के खिलाफ अच्छी मुक्केबाजी की थी, लेकिन दुर्भाग्य से बाउट के दौरान मुझे अपनी बाईं आंख के ऊंपर एक बड़ा कट लग गया। हालांकि मैं जीता, मैं दूसरे जर्मन के खिलाफ अपने सेमीफाइनल मैच में बहुत असहज था।"

हालांकि, हुसामुद्दीन ने अपनी प्रगति के साथ थोड़ा दुर्भाग्य का सामना करना पड़ा, लेकिन वह विश्व कप में अपने प्रदर्शन से बेहद खुश हैं।

टोक्यो ओलंपिक के लिए मुक्केबाजी योग्यता स्पर्धा मार्च 2021 से शुरू होगी और विश्व कप में पदक जीतने वाले खिलाड़ी के लिए एक बड़ा प्रोत्साहन है। वह टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने के लक्ष्य के साथ अपने बचाव कौशल और फिटनेस में सुधार करने की योजना बना रहे हैं।

हुसामुद्दीन ने कहा, "मैं फिटनेस पर बहुत ध्यान केंद्रित कर रहा था। मैं अपने बचाव कौशल में भी सुधार कर सकता था। मैं अब एक बेहतर बॉक्सर हूं।"

उन्होंने कहा, "मेरे पास टोक्यो ओलंपिक में मुक्केबाजी करने का मौका है और क्वालीफाइंग टूर्नामेंट मार्च से आयोजित किए जाएंगे। मैं अच्छे आकार में हूं और टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने का इंतजार कर रहा हूं। उम्मीद है कि मैं जगह बना सकता हूं।"