नेशनल ग्रीको रोमन चैम्पियनशिप: पहले दिन आठ पदक के साथ सर्विसेज का दबदबा  

प्रत्येक भार वर्ग में से चार शीर्ष फिनिशरों का चयन सोनीपत के SAI सेंटर में राष्ट्रीय तैयारी शिविर के लिए किया जाएगा

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

सेवा खेल नियंत्रण बोर्ड (SSCB) की कुश्ती टीम ने जालंधर में शनिवार को दो दिवसीय राष्ट्रीय ग्रीको रोमन चैम्पियनशिप के पहले दिन अपना दबदबा कायम किया। 

सर्विसेज दल ने कुल आठ पदक हासिल किए, जिसमें दो स्वर्ण, तीन रजत और तीन कांस्य पदक शामिल हैं। 

वहीं, रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड (RSPB) ने चार पदक के साथ दूसरी सर्वश्रेष्ठ टीम के रूप में दिन का समापन किया। इसमें एक स्वर्ण और एक रजत पदक शामिल है। 

55 किग्रा स्पर्धा में सर्विसेज ने अपना दबदबा दिखाया और एशियाई कांस्य पदक विजेता अर्जुन हलाकुर्की (Arjun Halakurki) और विजय (Vijay) के बीच ऑल-सर्विसेज फाइनल हुआ। हालाकुर्की ने अपने अनुभव का इस्तेमाल करते हुए शिखर मुकाबले में शीर्ष पोडियम स्थान प्राप्त किया। वहीं, इस वर्ग में उत्तर प्रदेश के अरशद (Arshad) और हरियाणा के श्रीकांत (Shrikant) ने कांस्य पदक जीता।

नवीन (Naveen) ने 130 किग्रा भारवर्ग में दिल्ली के रवि कुमार (Ravi Kumar) को पछाड़ते हुए खिताब जीतकर SSCB के खाते में एक और स्वर्ण पदक का इजाफा किया। जबकि सोम (SSCB) और अवेश (हरियाणा) ने कांस्य पदक जीता। 

RSPB के लिए एकमात्र स्वर्ण पदक मनीष कुमार (Manish Kumar) ने दिलाया। उन्होंने 60 किलोग्राम भारवर्ग में मध्य प्रदेश के सनी जाधव (Sunny Jadhav) को हराया। होम टीम का प्रतिनिधित्व करते हुए हरप्रीत सिंह (Harpreet Singh) ने 82 किलोग्राम वर्ग के फाइनल में SSCB के संजीत (Sanjeet) को पछाड़ते हुए स्वर्ण पदक जीता। RSPB के अतुल (Atul) और हरियाणा के रोहित दहिया (Rohit Dahiya) ने कांस्य पदक अपने नाम किया। 

प्रतियोगिता के अंतिम दिन रविवार को 63 किग्रा, 72 किग्रा, 77 किग्रा, 87 किग्रा, 97 किग्रा वर्ग में मुकाबले होंगे। 

कुश्ती फेडरेशन ऑफ इंडिया (WFI) ने कोविड-19 के कारण लॉकडाउन लागू होने के बाद घरेलू प्रतियोगिताओं को आयोजित करने के लिए ठोस प्रयास किए हैं। 

इससे पहले इस साल जनवरी में पुरुषों के फ्रीस्टाइल नेशनल नोएडा में आयोजित किया गया था। जबकि आगरा में महिलाओं की फ्रीस्टाइल प्रतियोगिता आयोजित की गई। 

सोनीपत के भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) प्रशिक्षण केंद्र में अगले सप्ताह से शुरू होने वाले राष्ट्रीय तैयारी शिविर के लिए प्रत्येक भार वर्ग में से शीर्ष चार फिनिशरों का चयन किया जाएगा।