सैयद मोदी चैंपियनशिप से भारतीय खिलाड़ियों को होंगी काफी उम्मीदें 

साइना नेहवाल और श्रीकांत किदांबी फॉर्म को बरकरार रखते नज़र आएंगे और साथ ही लक्ष्य सेन का लक्ष्य एक और ख़िताब अपने नाम करना होगा।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

लखनऊ के बाबू बनारसी दास इंडोर स्टेडियम में 26 नवंबर से होने वाली सैयद मोदी इंटरनेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप के आगाज़ के साथ ही साल 2019 का बैडमिंटन कारवां अब लगभग अपने अंतिम चरम पर आ चुका है। सभी भारतीय खिलाड़ी इस प्रतियोगिता के ज़रिए अच्छी लय पकड़ कर नए साल की शुरुआत करना चाहेंगे।

क्या बदलेगी किस्मत?

सुपर 300 सैयद मोदी इंटरनेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप में साइना नेहवाल टूर्नामेंट में शिरकत करने वाली तीसरी रैंक की खिलाड़ी के रूप में हिस्सा लेंगी और फिलहाल वह अपनी फॉर्म को खोजती दिखाई दे रहीं हैं। इंग्लैंड की च्लोए बिर्च के खिलाफ होने वाले मुकाबले में वे ज़रूर अच्छा प्रदर्शन कर प्रतियोगिता में अपनी छाप छोड़ना चाहेंगी।

लंदन 2012 ब्रॉन्ज़ मेडल विजेता ने रविवार को बताया कि वह प्रीमियर बैडमिंटन लीग का हिस्सा नहीं होंगी। बात करें अगर सैयद मोदी इंटरनेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप की तो सेमीफाइनल में उनका मुकाबला चीन की हैन यू से हो सकता है। पिछले साल की प्रतियोगिता के हवाले से बात करें तो फाइनल में इस चीनी शटलर ने नेहवाल को 21-18, 21-8 से हराकर ख़िताब अपने नाम किया था। ऐसे में इस बार अगर इन दोनों का आमना-सामना होता है तो यक़ीनन यह मुकाबला दिलचस्प होगा।

वर्ल्ड चैंपियनशिप की ब्रॉन्ज़ विजेत ही बिंगजियाओ सैयद मोदी इंटरनेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप में अपनी अगुवाई टॉप रैंक पर रह कर करेंगी। रियो ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता कैरोलिना मारिन घुटने की चोट के बाद वापसी करती नज़र आएंगी। इस टूर्नामेंट में लय पकड़ कर वह ओलंपिक गेम्स 2020 तक बेहतर प्रदर्शन करने की कोशिश से कोर्ट पर उतरेंगी।

लक्ष्य का लक्ष्य

भारतीय पुरुष बैडमिंटन खिलाड़ियों की बात करें तो बी साईं प्रणीत, श्रीकांत किदांबी और पारुपल्ली कश्यप के कंधों पर ज़्यादा दारोमदार होगा। इन सभी दिग्गजों के साथ एक और उभरता भारतीय नाम है लक्ष्य सेन का अपने यूरोपियन टूर में उम्दा प्रदर्शन कर सुर्खियां बटोर चुके सेन ने पिछले कुछ महीनों में चार ख़िताब अपने नाम किए हैं। सैयद मोदी इंटरनेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप उनके लिए किसी भी बड़े अनुभव से कम नहीं होगी जहां वह एक से बढ़कर एक खिलाड़ियों के सामने अपना जौहर दिखाते नज़र आएंगे।

यूथ ओलंपिक 2018 में सिल्वर मेडल अपने नाम कर, सेन ने अपने कौशल का प्रमाण पेश किया। तब से लेकर अब तक सेन ने पोलैंड, बेल्जियम, नीदरलैंड और स्कॉटलैंड की ज़मीन पर भारतीय तिरंगे को लहराया और हर ख़िताब को अपने नाम किया। हालांकि सेन की चुनौतियां कम नहीं होने वाली हैं क्योंकि अपने पहले ही राउंड में वह फ्रांस के थॉमस रोलेक्स के खिलाफ खेलते नज़र आएंगे। अगर सेन इस मुकाबले में जीत हासिल कर लेते हैं तो उनका अगला मुकाबला दक्षिण कोरिया सोन वान हो से होगा। आपको बता दें कि वान हो ने मलेशिया मास्टर्स में ओलंपिक गेम्स के विजेता चेन लोंग को मात देकर ख़िताब अपने नाम किया था।

वहीं दूसरी तरफ श्रीकांत किदांबी जीत के साथ अपनी बीडब्लूएफ रैंकिंग को बढ़ाकर टोक्यो 2020 में क्वालिफाई करना चाहेंगे। फिलहाल किदांबी भारतीय खिलाड़ियों की लिस्ट में छठे स्थान पर हैं और ओलंपिक गेम्स 2020 के लिए सिर्फ दो ही खिलाडियों का चयन होगा

शानदार फॉर्सा में चल रही सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग की जोड़ी  

जोड़ियों की गुहार 

डबल यानि बैडमिंटन में जोड़ियों की बात की जाए तो भारत के सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी अव्वल नंबर पर खड़ी है। पिछले कुछ समय में बैडमिंटन की दुनिया में दबदबा मचाते हुए इस जोड़ी ने बहुत नाम किया और सैयद मोदी इंटरनेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप को जीत कर वह अपनी आगे की राह ज़रूर आसान करना चाहेंगे।

वूमेंस डबल्स की बात करें तो अश्विनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी की जोड़ी भी जीत की गुहार लगाए कोर्ट पर उतरेगी। हालांकि इस महिला जोड़ी ने पिछले कुछ समय में शुरूआती राउंड को भी पार नहीं किया है। इंडिया ओपन और हैदराबाद ओपन में वह ज़रूर असरदार साबित हुए लेकिन जीत अभी भी उनसे वंचित है।ऐसे में पोनप्पा-रेड्डी की जोड़ी को जीत से कम कुछ भी काफी नही होगा।

कहां देखें?

सैयद मोदी इंटरनेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप 2019 के सेमीफाइनल का सीधा प्रसारण नवंबर 30, शनिवार दोपहर के 2:00 बजे से स्टार स्पोर्ट्स नेटवर्क और हॉटस्टार पर दिखाया जाएगा।