ओलंपिक की मेज़बानी के सपने को साकार करने के लिए भारत उत्सुक

आईओसी सदस्य नीता अंबानी किसी दिन भारत में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों का आयोजन होने का सपना देखती हैं और आने वाले वर्षों में इसके लिए धीरे-धीरे काम शुरू करना चाहती हैं।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

ओलंपिक दुनिया में सबसे बड़े खेल के मंच का प्रतिनिधित्व करता है। भारत जैसे देश में जहां खेलों को लोग इतना पसंद करते हैं वहां खेल के इस महाकुंभ का आयोजन करना बेहद तार्किक हो जाता है। ऐसा होने से देश में और भी अधिक गुणवत्ता वाले एथलीट पैदा होंगे।

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) की सदस्य नीता अंबानी (Neeta Ambani) की भी वही महत्वाकांक्षा है। उन्होंने इंडिया टुडे से बात करते हुए कहा, "भारत में कभी भी ओलंपिक खेलों का आयोजन नहीं हुआ है। मेरा सपना है कि हम इसकी ओर धीरे-धीरे आगे बढ़ें और काम शुरू करें ताकि हम आने वाली पीढ़ियों के लिए इस सपने को साकार कर सकें।"

वह इस प्रयास की ओर बढ़ने के लिए 2023 IOC सत्र को भारत में आयोजित करना चाहती थीं, जिसके लिए पिछले साल लौसाने में एक प्रस्ताव रखा गया और इसके बाद युवा ओलंपिक की मेज़बानी के लिए भी प्रस्ताव भेजा गया।

नीता अम्बानी ने साक्षात्कार में कहा, “यदि हम भारत में युवा ओलंपिक की मेज़बानी प्राप्त करते हैं, तो हम कई बच्चों के जीवन को बदल सकते हैं। इससे ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों की ओर बढ़ने और उसकी मेज़बानी करने की राह को प्रशस्त करेगा।”

नीता अंबानी को किसी दिन ओलंपिक की मेज़बानी भारत लाने है उम्मीद

भारत बड़े इवेंट्स की मेज़बानी में सक्षम

साल 2016 में आईओसी के लिए चुनी गईं नीता अम्बानी अगर वैश्विक ओलंपिक गवर्निंग बॉडी में अपने प्रस्ताव के लिए पर्याप्त समर्थन जुटाने में सफल रहती हैं तो यह भारत के लिए एक बड़े अवसर का प्रतिनिधित्व करेगा।

इसके अलावा देश ने अतीत में बड़े-बड़े इवेंट्स की मेज़बानी की है, 2010 में राष्ट्रमंडल खेलों और 2011 में क्रिकेट विश्व कप का आयोजन किया गया है। हालांकि ओलंपिक की मेज़बानी एक बड़ी चुनौती है लेकिन भारत ने इनसे पार पाने का इरादा बना लिया है।

यूथ ओलंपिक में भारत

ओलंपिक के आयोजन से पहले युवा ओलंपिक खेलों की मेज़बानी करना सभी प्रक्रियाओं को सही से करने का एक अच्छा अभ्यास करा सकता है। अतीत में इस कार्यक्रम में प्रतिभा की पहचान करने के मामले में भारत को कहीं अधिक फायदा हुआ है।

2018 में सबसे हाल के युवा ओलंपिक में विवेक सागर प्रसाद, लक्ष्य सेन और मनु भाकर ने पदक जीते जबकि टूर्नामेंट में भारतीय टेनिस खिलाड़ी युकी भांबरी, पहलवान पूजा ढांडा और शिवा थापा ने इससे पहले के संस्करणों में पदक जीते हैं।