जॉर्डन ब्यूरोह और ऐ यूएडा के साथ विज़ुअलाइज़ेशन

लंदन 2012 ओलंपिक रेसलिंग के स्वर्ण पदक विजेता और दो बार के एशियाई ट्रायथलॉन चैंपियन दिखाते हैं कि वे अपने प्रदर्शन को सुधारने के लिए विज़ुअलाइज़ेशन (कलप्ना) का उपयोग कैसे करते हैं।

विज़ुअलाइज़ेशन Olympic State of Mind की तीन तकनीकों में से एक है, ब्रिजस्टोन ओलंपिक चैनल का अनुभव आपको सबसे अच्छा बनने में मदद करता है।

आप क्या करना चाहते हैं, या आप अपने प्रदर्शन के कुछ हिस्सों को कैसे करना चाहते हैं, इसकी एक मानसिक छवि बनाते हुए, आपको अपने लक्ष्यों तक पहुँचने के लिए आपको क्या करने की आवश्यकता है, इस पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिल सकती है।

प्रतियोगिता स्थल तक जाने तक से लेकर अपनी टीम की जर्सी पहनने तक, खुद को तैयार करने में मदद करने के कई तरीके हैं कि आप क्या हासिल करने की उम्मीद करते हैं

कुश्ती – जॉर्डन ब्यूरोह

रियो 2016 में निराशा के बाद, जॉर्डन ब्यूरोह शारीरिक और मानसिक रूप से अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाने में जुट गए।

लंदन 2012 के ओलंपिक चैंपियन, अमेरिकी पहलवान ने दिखाया कि वो फिर से शानदार प्रदर्शन कर सकते है और 2017 में अपना चौथा विश्व खिताब जीतकर शिखर पर पहूंच सकते हैं।

ब्यूरोह के पास विज़ुअलाइज़ेशन एक्सरसाइज का बहुत बड़ा रेंज है, इसका उपयोग वो खुद सबसे बेहतर बनाने के लिए करते हैं। और जब वो प्रशिक्षण में संघर्ष कर रहे होते हैं तो उनका उपयोग करते हैं।

उन्होंने कहा, "ये आमतौर पर कहीं भी 30 सेकंड से एक मिनट तक रहता है। मैं वास्तव में प्रशिक्षण सत्रों में देरी पर निर्भर करता हूं, जब आप वास्तव में थकने लगते हैं और आपका दिमाग आपको छोड़ने के लिए कहता है। उस समय आपको पहचानने की जरुरत होती है कि आपका प्रतिद्वंद्वी है उस पल में मेहनत कर रहा है, आपको उससे ज्यादा मेहनत करने की जरुरत होती है।

"आपको वास्तव में उस वर्कआउट को समाप्त करने के लिए आंतरिक रूप से किसी चीज़ पर निर्भर होना होता है और वास्तव में ऐसी चीज़ आकर्षित करती है जो मददगार हो, ताकि आप ऐसा कर सकें और उस मैच के लिए तैयार रहें।"

ब्यूरोह भी जीत के बारे में नहीं सोचने में विश्वास करते हैं, केवल "प्रदर्शन के बारे में सोचने को प्राथमिकता देते हैं।

वो कहते हैं, "मेरे हिसाब से विज़ुअलाइज़ेशन आपको बेहतर बनाता है। यदि आप अपने आप को एक ऐसी स्थिति में डाल सकते हैं जहाँ आप पूरे छह मिनट तक कुश्ती कर सकते हैं, तो आप मैच के लिए तैयार हैं। अगर आप कोई भी अंक नहीं गंवाते हैं, हार को स्वीकार नहीं करते हैं, आप मजबूत हैं, और आप हर स्थिति से लड़ने के लिए तैयार हैं, तो आप विजयी होंगे। और यदि नहीं, तो आपको कोई पछतावा नहीं होगा क्योंकि आपने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

एक्सक्लूसिव! जॉर्डन बरोज़:

एक्सक्लूसिव! जॉर्डन बरोज़: "अगर मैं चैंपियन नहीं हूं तो मैं कौन हूं?"

ट्रायथलॉन- ऐ यूएडा

एशियाई चैंपियनशिप में कुल छह खिताब और 2014 के एशियाई खेलों के दो स्वर्ण पदक के साथ, ऐ यूएडा को जापान में 'आयरन गर्ल' के नाम से जाना जाता है।

अब 36 साल की हो चुकी यूएडा 2005 में अपने पहले एशियाई खिताब को जीतने के बाद लगातार सफलता हासिल की हैं।

हालांकि, उन्हें भी अपने फॉर्म में गिरावट का सामना करना पड़ा है, यूएडा हमेशा पोडियम फिनिश करने में कामयाब रही हैं।

अक्टूबर 2018 में 30 महीने के सूखे को खत्म कर ट्रायथलॉन में जीत हासिल करने के बाद, यूएडा ने 2019 में शानदार प्रदर्शन करते हुए चार ITU विश्व कप जीता और अपना पांचवां व्यक्तिगत एशियाई खिताब भी अपने नाम किया।

आत्म-विश्वास एक चीज है, जो यूएडा के पास प्रचुर मात्रा में है और उन्होंने ओलंपिक चैनल से कहा, "यदि आप अपनी क्षमता में विश्वास नहीं रखते हैं, तो संभवतः अपने लक्ष्यों को प्राप्त करना मुश्किल होगा।"

वह बेहतर होने के लिए विज़ुअलाइज़ेशन का भी उपयोग करती हैं और कहती है कि "एक मुस्कान की कीमत को समझना चाहिए"।

"उस खुशी के बारे में सोचिए, जब आप कर दिखाएंगे। अच्छे समय और बुरे समय में अपने चेहरे पर मुस्कान बनाए रखें। एक ऐसी मुस्कान जो आप हमेशा अपने पास रख सकते हैं।

"उस मुस्कान का उपयोग आप अपने समर्थकों के लिए करें, जो आपको आगे बढ़ने के लिए उत्साहित करते हैं। ये बहुत अच्छा होता है जब आप इस लय को बरकरार रखते हैं और जो लोग हर कदम पर आपके साथ होते हैं, वो भी अपके जीत में हिस्सेदारी हो सकते हैं।"

ओलंपिक स्टेट ऑफ माइंड के साथ विज़ुअलाइज़ की सफलता

ये शानदार इंटरएक्टिव ओलंपिक स्टेट ऑफ माइंड पर देखने को मिलेगा और इसमें ब्रिजस्टोन एथलीट एम्बेस्डर पीवी सिंधु, एलिसन फेलिक्स, थॉमस रोह्लर और एरियार्ने टिटमस नज़र आएंगे।

आपकी अनुभव को बेहतर बनाने के लिए ओलंपिक चैनल पॉडकास्ट के एक विशेष संस्करण में वीडियो क्लिप, पहेलियां और गेम हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!