टोक्यो में गोल्ड की राह आसान नहीं लेकिन जीतने की पूरी कोशिश करूंगी : पीवी सिंधु

भारतीय बैडमिंटन स्टार का मानना है कि वह टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड जीतने के लिए तैयार हैं, जिसे वह रियो में चूक गई थी।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु (PV Sindhu) जुलाई में होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिए खुद को तैयार कर रही हैं और अब उन्होंने गोल्ड मेडल जीतने के सपने देखने भी शुरू कर दिए हैं। रियो 2016 की सिल्वर मेडलिस्ट और वुमेंस वर्ल्ड चैंपियन अब ओलंपिक ईयर में अच्छा प्रदर्शन करने को आश्वस्त है।

पीवी सिंधु ने ANI से बातचीत में बताया कि “मैं ओलंपिक की रणनीति अच्छे से बना रही हूं, निश्चित तौर पर सभी मेडल जीतने के लिए अपना 100 प्रतिशत देना चाहते हैं और मैं खुद को टोक्यो में गोल्ड जीतते देखना चाहती हूं और इसके लिए मैं कड़ी मेहनत भी कर रही हूं।"

इसके अलावा भारतीय स्टार ने कहा “निश्चित तौर पर ओलंपिक में यह बहुत कठिन होगा लेकिन मैं अपना पूरा जोर लगाने के लिए तैयार हूं।”

कोरोना महामारी के चलते 25 साल की सिंधु मार्च में हुए ऑल इंग्लैंड ओपन (All England Open) के बाद से कोर्ट से बाहर हैं।

लेकिन वह खुद को टोक्यो खेलों के लिए तैयार रखने के लिए पूर्व ओलंपियन और यूरोपीय चैंपियन राजीव औसेफ (Rajiv Ouseph) के अंडर में इंग्लैंड में प्रशिक्षण ले रही हैं।

अब इस खिलाड़ी को उम्मीद है कि वह इस महीने के अंत में बैंकॉक में योनेक्स थाईलैंड ओपन (Yonex Thailand Open) और टोयोटा थाईलैंड ओपन (Toyota Thailand Open) के दौरान कोर्ट में वापसी करेंगी, क्योंकि बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (बीडब्ल्यूएफ) के कैलेंडर के अनुसार एशियन टूर शुरू हो जाएगा।

भारतीय स्टार ने बताया कि “मेरी ट्रेनिंग अच्छी चल रही है और आगामी टूर्नामेंट को लेकर उत्साहित हूं। मुझे ट्रेनिंग करने का पूरा समय मिला है और उम्मीद है कि मैं थाईलैंड में अच्छा प्रदर्शन कर पाऊंगी। हालांकि ये बिल्कुल आसान नहीं होगा लेकिन जनवरी की शुरुआत में मुझे कुछ टूर्नामेंट खेलने हैं, इसलिए मैं एक बार में एक टूर्नामेंट की सोच रही हूं।”

पीवी सिंधु जनवरी में होने वाले पहले राउंड ड्रॉ की दावेदार मानी जा रही हैं, वह 12 जनवरी से शुरू होने वाले योनेक्स थाईलैंड ओपन के पहले दौर में वुमेंस सिंगल्स में डेनिश शटलर मिया ब्लिचफेल्ट (Mia Blichfeldt) का सामना करेंगी।

वहीं 19 जनवरी से शुरू होने वाले टोयोटा थाईलैंड ओपन में छठी वरीयता प्राप्त सिंधु अपने पहले मैच में थाईलैंड के बुसानन ओंगब्रामुंगफान (Busanan Ongbamrungphan) के खिलाफ मुकाबला करेंगी।

बैडमिंटन के इतने लंबे ब्रेक से वापस आने के साथ, भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी ने यह भी कहा कि खिलाड़ियों को अपने दृष्टिकोण के साथ धैर्य रखने की जरूरत है क्योंकि लय में वापस आने में अभी कुछ समय लग सकता है। हालांकि वह अपने आखिरी लक्ष्य यानी ओलंपिक गोल्ड पर नजर जमाए बैठी हैं।