रामकुमार रामानाथन का बैंकॉक चैलेंजर में शानदार सफ़र क्वार्टर फ़ाइनल में थम गया

बैंकॉक एटीपी चैलेंजर के क्वार्टर फ़ाइनल में रामकुमार रामानाथन को नीदरलैंड के रॉबिन हास के हाथों मिली हार

भारत के टेनिस स्टार रामकुमार रामानाथन को शुक्रवार को बैंकॉक एटीपी चैलेंजर के क्वार्टर फ़ाइनल मुक़ाबले में हार के साथ बाहर हो गए। उन्हें नीदरलैंड के रॉबिन हास ने सीधे सेटों में 7-6(5), 6-2 से शिकस्त दी।

इस हार के साथ ही 25 वर्षीय इस भारतीय खिलाड़ी के बेहतरीन अभियान का अंत हो गया, जिसमें दूसरी वरीयता हासिल गो सोडा पर धमाकेदार जीत भी शामिल है। सोडा को ही हराकर उन्होंने अंतिम-8 में जगह बनाई थी।

सांस रोक देने वाला रहा टाई ब्रेकर

पहले सेट में रामकुमार की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी जब उन्होंने अपनवी सर्विस वाला पहला गेम गंवा दिया था। हालांकि इसके बाद उन्होंने बेहतरीन वापसी करते हुए अपने प्रतिद्वंदी पर दबाव बनाना शुरू कर दिया था। और डच खिलाड़ी की सर्विस तोड़ते हुए रामकुमार ने स्कोर 3-3 से बराबर कर दिया था।

इसके बाद दोनों ही खिलाड़ियों ने पहले सेट में अपनी सर्विस नहीं गंवाई और नतीजा टाई ब्रेकर तक पहुंचा।

रामकुमार रामानाथन का सफ़र बैंकॉक एटीपी चैलेंजर के क्वार्टर फ़ाइनल में थम गया
रामकुमार रामानाथन का सफ़र बैंकॉक एटीपी चैलेंजर के क्वार्टर फ़ाइनल में थम गयारामकुमार रामानाथन का सफ़र बैंकॉक एटीपी चैलेंजर के क्वार्टर फ़ाइनल में थम गया

रामकुमार ने टाई ब्रेकर में अपनी पहली सर्विस में प्वाइंट गंवा दिया था, इसका फ़ायदा उठाते हुए रॉबिन हास ने 4-2 की मज़बूत बढ़त हासिल कर ली थी।

डच खिलाड़ी ने यहां से बढ़त को अपने पास रखा और मौक़े को न गंवाते हुए 7-5 से टाई ब्रेकर के ज़रिए हास ने पहला सेट जीत लिया।

एकतरफ़ा रहा दूसरा सेट

दूसरा सेट बिल्कुल एकतरफ़ा हो गया था, रॉबिन हास ने तुरंत ही अपना दबदबा मैच में बना लिया।

रामकुमार रामानाथन को अपनी सर्विस भी गंवानी पड़ी और देखते ही देखते भारतीय खिलाड़ी दूसरे सेट में 1-3 से पीछे हो गया था।

भारतीय खिलाड़ी ने इसके बाद सिर्फ़ एक और गेम जीता और बाक़ी सभी गेम डच खिलाड़ी की झोली में गए।

डच खिलाड़ी ने अपना दबदबा भारतीय खिलाड़ी पर ज़ाहिर करते हुए दूसरा सेट आसानी के साथ 6-2 से जीत लिया और रामकुमार के बैंकॉक एटीपी चैलेंजर के सफ़र पर विराम लगा दिया।

भारतीय सभी चुनौती समाप्त

बैंकॉक एटीपी चैंलेजर में इसी के साथ सभी भारतीय चुनौती समाप्त हो गई, रामकुमार रामानाथन आख़िरी और एकमात्र भारतीय उम्मीद थें। इससे पहले उनके हमवतन ससी कुमार मुकुंद को राउंड ऑफ़ 16 में कज़ाख़्सतान के दिमित्री पोपको के हाथों सीधे सेटों में हार मिली थी।

रॉबिन हास का अगला मुक़ाबला अब शनिवार को फ़्रांस के ह्यूगो ग्रेनियर से सेमीफ़ाइनल में होगा।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!