रामकुमार रामनाथन और पूरव राजा की हार के साथ टाटा ओपन महाराष्ट्र में भारत की सभी चुनौतियां समाप्त 

एक अच्छी कोशिश के बाद भारतीय जोड़ी रामकुमार रामनाथन और पूरव राजा की सेमीफ़ाइनल में हार, टाटा ओपन महाराष्ट्र में अब कोई भारतीय खिलाड़ी नहीं

लेखक सैयद हुसैन ·

शनिवार को पुणे में खेले गए टाटा ओपन महाराष्ट्र में भारत की आख़िरी उम्मीद रामकुमार रामनाथन और पूरव राजा को सेमीफ़ाइनल में इज़रायल के जोनॉथन एरलिक और बेलारुस के आंद्रे वासिलेविसकी के हाथों 6-7 (3-7), 4-6 से हार का सामना करना पड़ा। इसी के साथ अब सभी भारतीय चुनौती समाप्त हो गई।

इससे पहले भी भारत के कई सितारे एकल और युगल मुक़ाबलों में हारकर टाटा ओपन महाराष्ट्र से बाहर हो चुके थे, और शनिवार को रामकुमार रामनाथन और पूरव राजा भारत की आख़िरी उम्मीद थे।

Purav Raja and Ramkumar Ramanathan’s Tata Open Maharashtra run came to an end on Sunday. Photo: TOM Media

पिछली बार पुणे में ही इस जोड़ी ने 2019 पुणे चैलेंजर अपने नाम किया था और उम्मीद थी कि ये जोड़ी उसी प्रदर्शन को टाटा ओपन महाराष्ट्र में दोहराएगी।

भारतीय जोड़ी की वापसी रही नाकाम

मेहमान जोड़ी एक शानदार प्लान के साथ टेनिस कोर्ट में उतरी थी और उन्होंने उसमें बेहतरीन अंदाज़ में क़ामयाबी भी पाई। आंद्रे और जोनॉथन की जोड़ी ने अपना पहला सर्विस गेम जीतने के बाद अगले ही गेम में भारतीय जोड़ी की सर्विस तोड़ दी थी और 2-0 की बढ़त हासिल कर ली थी।

शुरुआत में ही 0-2 से पिछड़ने के बाद भारतीय जोड़ी दबाव में थी, यहां से उन्होंने संयम बनाए रखा और अपनी सर्विस हीं गंवाई थी। इसके बाद रामकुमार-पूरव की जोड़ी ने विपक्षी टीम की सर्विस तोड़ते हुए स्कोर 5-5 कर दिया था।

इसके बाद दोनों ही टीमों ने अपनी सर्विस ज़ाया नहीं की और स्कोर 6-6 हो गया था, यानी अब सेट का नतीजा टाई-ब्रेकर में पहुंच गया।

यहां भारतीय जोड़ी को 3-7 से हार मिली और पहला सेट आंद्रे-जोनॉथन ने 7-6 से अपने नाम कर लिया था।

दूसरे सेट में भारतीय जोड़ी नहीं कर सकी पलटवार

रामकुमार रामानाथन और पूरव राजा मैच में पहला सेट गंवाने के बाद वापसी के इरादे से कोर्ट पर उतरे थे और पहले 9 गेम्स तक दोनों ही टीमों ने अपनी अपनी सर्विस नहीं गंवाई थी। रामकुमार और पूरव ने सोच लिया था कि मैच को तीसरे और निर्णायक सेट में ले जाना है।

लेकिन ऐसा हो न सका और यहां से उन्होंने अपनी सर्विस गंवा दी, और अब 4-5 से पीछे हो गए थे। आंद्रे और जोनॉथन ने इस मौक़े को ज़ाया नहीं किया और अपनी सर्विस में अगला गेम जीतने के साथ ही फ़ाइनल में अपना स्थान पक्का कर लिया, जबकि इस हार के साथ रामकुमार रामनाथन और पूरव राजा का सफ़र यहीं थम गया।

अब है बेंगलुरु ओपन की बारी

आंद्रे-जोनॉथन की जोड़ी का सामना फ़ाइनल में रविवार को स्वीडन के आंद्रे गोरैनसन और इंडोनेशिया के क्रिस्टोफ़र रंगकाट की जोड़ी के ख़िलाफ़ होगा।

तो वहीं रामकुमार रामानाथन और पूरव राजा के साथ साथ कई भारतीय टेनिस खिलाड़ी अब दक्षिण भारत का रूख़ करेंगे जहां कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में सोमवार 10 फ़रवरी से बेंगलुरु टेनिस ओपन की शुरुआत होगी।