सानिया मिर्ज़ा बनीं फे़ड कप हार्ट अवॉर्ड जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी

माँ बनने के बाद कोर्ट पर वापसी करते हुए सानिया मिर्ज़ा ने उम्दा प्रदर्शन दिखाते हुए भारत को फे़ड कप के प्ले ऑफ़ में पहुंचाया था।

सानिया मिर्ज़ा (Sania Mirza) ने एशिया/ओशिनिया की ओर से फेड कप हार्ट अवॉर्ड जीता है। इसी के साथ वह ऐसा करने वाली पहली भारतीय टेनिस खिलाड़ी बन गई हैं। इस अवॉर्ड का चुनाव प्रशंसकों द्वारा ऑनलाइन किया गया, जिसमें कुल 17,000 वोटों में से इस भारतीय खिलाड़ी ने 60 प्रतिशत वोट अपने नाम किए। इस कश्मकश में उन्होंने इंडोनेशिया की प्रिस्का मैडलीन नुगरोहो (Priska Madelyn Nogroho) को पीछे छोड़ दिया।

इस जीत पर सानिया मिर्ज़ा ने कहा, “भारत के लिए यह अवॉर्ड जीतने वाली पहली खिलाड़ी बनना एक गर्व की बात है। इस जीत का श्रेय मैं पूरे देश को देती हूं और साथ ही उन फैंस को भी धन्यवाद करती हूं, जिन्होंने मुझे वोट दिया। मैं आशा करती हूं कि आने वाले समय में मैं भारत को और भी ज़्यादा गौरवान्वित सकूं।"

इस अवॉर्ड के लिए भारत की ओर से सानिया मिर्ज़ा इकलौती दावेदार थीं और इसे जीत कर उन्होंने खुद को पूर्व फ्रेंच और ऑस्ट्रेलियन ओपन चैंपियन ली ना (Li Na) और पूर्व वर्ल्ड नंबर 1 किमिको दाते (Kimiko Date) की फ़ेहरिस्त में अपना नाम जोड़ लिया है।

ग़ौरतलब है कि मेक्सिको की फर्नांडा कॉन्ट्रेरस गोमेज़ (Fernanda Contreras Gomez) और एस्टोनियन एनेट कोंटावेइट (Anett Kontaveit) ने अमेरिका और यूरोप/अफ्रीका ज़ोन से इस अवॉर्ड पर अपने नाम की मुहर लगा दी। इसी के साथ फेड कप में दिग्गज सेरेना विलियम्स (Serena Williams) के 14 मुकाबलों की जीत को तोड़ने वाली अनास्तासिया सेवास्तोवा (Anastasija Sevastova) ने क्वालिफ़ायर्स वर्ग में जीत हासिल की।
जीत में मिली $2,000 की धनराशि को मिर्ज़ा ने तेलांगना चीफ मिनिस्टर फंड में दान किया है ताकि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई आसान हो सके।

सानिया मिर्ज़ा ने की शानदार वापसी

फेड कप हार्ट इंटरनेशनल टेनिस फेडरेशन (International Tennis Federation) द्वारा आयोजित किया जाता है और इसे पहली बार साल 2009 में आयोजित किया गया था। इस खिताब का मक़सद खिलाड़ियों की कड़ी मेहनत और उनकी उपलब्धियों को सराहना होता है। मिर्ज़ा जो कि भारतीय महिलाओं की प्रेरणा बन चुकी हैं और इस जीत के बाद उन्होंने अपने नाम को और ऊंचा कर दिया है।

माँ बनने के बाद कोर्ट पर उतरी सानिया मिर्ज़ा ने खेल की शुरुआत होबार्ट इंटरनेशनल में युगल ख़िताब जीत कर की। आपको बता दें कि यह खिताब उन्होंने नादिया किचेनोक (Nadiia Kichenok) के साथ जोड़ी बनाकर हासिल किया था। इस खिलाड़ी ने 4 साल बाद फेड कप में शिरकत की और एशिया/ओशिनिया ग्रुप-1 में दूसरा स्थान हासिल कर अपने जीत के रिकॉर्ड को कायम रखा और प्ले-ऑफ़ में प्रवेश किया।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!