टेनिस

ऑस्ट्रेलियन ओपन से ठीक पहले सानिया मिर्ज़ा ने ख़िताबी जीत के साथ किया सीज़न का आग़ाज़

सानिया और नादिया ने सीधे सेटों में किया चैंपियनशिप पर कब्ज़ा

लेखक सैयद हुसैन ·

भारतीय टेनिस दिग्गज सानिया मिर्ज़ा ने मां बनने के बाद कोर्ट पर शानदार वापसी करते हुए शनिवार की सुबह होबार्ट इंटरनेश्नल में अपनी जोड़ीदार यूक्रेन की नादिया किचेनोक के साथ मिलकर महिला युगल का ख़िताब जीत लिया।

इस जोड़ी ने चीन की दूसरी वरीयता हासिल ज़ैंग शुआई और पेंग शुआई की जोड़ी को फ़ाइनल में सीधे सेटों में 6-4-6-4 से मात दे दी। जबकि चीनी जोड़ी को एक दिन का अतिरिक्त आराम भी मिला था।

शुरुआत में दोनों ही टीमों के बीच अच्छी टक्कर देखने को मिल रही थी और 4-4 से पहला सेट बराबरी पर था, लेकिन यहां से सानिया और नादिया की जोड़ी ने आक्रामक प्रदर्शन करते हुए चीनी जोड़ी पर दबाव बनाना शुरू कर दिया था।

दबाव का नतीजा ये हुआ कि 9वें गेम में चीनी जोड़ी ने अपनी सर्विस ज़ाया कर दी, और अब भारत-यूक्रेन की जोड़ी के पास एक और गेम जीतते हुए पहला सेट जीतने का मौक़ा आ गया था।

सानिया मिर्ज़ा और नादिया किचेनोक ने बिल्कुल वही किया और अपनी सर्विस में गेम जीतते हुए पहला सेट अपने नाम कर लिया।

दूसरा सेट रहा बेहद रोमांचक

पहला सेट जीतने का आत्मविश्वास सानिया और नादिया पर साफ़ झलक रहा था और दूसरे सेट के पहले गेम में ही सानिया-नादिया ने चीनी जोड़ी की सर्विस तोड़ते हुए 1-0 से बढ़त ले ली थी। इसके बाद अपनी सर्विस में दूसरा गेम भी सानिया-नादिया ने जीता और फिर तीसरे गेम में एक बार फिर ज़ैंग-पेंग की सर्विस ब्रेक करते हुए भारत-यूक्रेन की जोड़ी ने 3-0 की बढ़त बना ली थी।

हालांकि इसके बाद अगले गेम में चीनी जोड़ी ने सानिया-नादिया की सर्विस ब्रेक करते हुए वापसी करी और फिर अपनी सर्विस में भी गेम जीतते हुए स्कोर 2-3 कर दिया था।

सानिया और नादिया ने अगला गेम जीतकर बढ़त को 4-2 कर दिया और लग रहा था कि ये सेट और जल्दी ख़त्म हो जाएगा। लेकिन दूसरी वरीयता प्राप्त जोड़ी ने कमाल की वापसी करते हुए पहले सर्विस तोड़ी फिर अपनी सर्विस में गेम जीता और स्कोर को 4-4 से बराबर करते हुए चीनी फ़ैंस के लिए उम्मीद जगा दी थी।

दर्शकों को एक कमज़ोर सर्विस वाला मुक़ाबला देखने को मिल रहा था, और एक बार फिर चीनी जोड़ी ने अपनी सर्विस गंवाते हुए भारत-यूक्रेन की जोड़ी के पाले में 5-4 की बढ़त दे दी थी। सानिया और नादिया की जोड़ी के पास अब ख़िताब के लिए सर्विस करने का मौक़ा मिल गया था जिसे भुनाते हुए सानिया मिर्ज़ा और नादिया केचिनोक ने ख़िताब पर कब्ज़ा जमा लिया।

मां बनने के बाद सानिया मिर्ज़ा का ये पहला टूर्नामेंट था जिसे जीतते हुए भारत की इस टेनिस स्टार ने अपनी वापसी का शानदार संकेत दे दिया है, साल की शुरुआत सानिया और नादिया के लिए ख़िताबी जीत के साथ हुई।