टेनिस

सानिया मिर्ज़ा ने कोर्ट पर वापसी के साथ किया जीत से आगाज़

मिर्ज़ा और किचनोक होबार्ट इंटरनेशनल के दूसरे राउंड में वानिया किंग और क्रिस्टीना मैकहेल का करेंगी सामना।

लेखक रितेश जायसवाल ·

भारत की स्टार टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्ज़ा ने मंगलवार को होबार्ट इंटरनेशनल में महिलाओं के डबल्स मुकाबले में शानदार जीत दर्ज की है। आपको बता दें, मिर्ज़ा ने दो साल बाद कोर्ट पर अपनी वापसी की है। उन्होंने यूक्रेन की नाडिया किचनोक के साथ ओकसाना कालाश्निकोवा और मियू को 2-6, 7-6(3), 10-3 से मात दी। सानिया की जोड़ी ने 1 घंटे 43 मिनट तक चले इस मुकाबले में शानदार जीत दर्ज की और इसी के साथ सानिया ने क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।

एक लंबे अंतराल के बाद मिर्ज़ा की कोर्ट पर वापसी और शुरूआती मुकाबले में यह जीत उनके आत्मविश्वास को और मजबूत करने के लिए काफी होगी। मिर्ज़ा ने अपने बच्चे को जन्म देने के कुछ दिनो बाद इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें उन्होंने चार महीने में 26 किलोग्राम वजन कम करने का खुलासा किया था। अब उन्होंने अपने संकल्प के साथ कोर्ट पर शानदार वापसी की है। हालांकि, सानिया और किचेनोक की जोड़ी पहले सेट के तीसरे और सातवें गेम में 2-6 से हार गई और पहले राउंड में 0-1 से पीछे हो गईं।

खराब शुरुआत

इंडो-यूक्रेनी जोड़ी जॉर्जिया-जापान की जोड़ी से मुकाबले के अपने पहले सेट में 50 फीसदी गेम को जीत सकती थी। वहीं, मिर्ज़ा और उनकी साथी पांच ब्रेक प्वाइंट में केवल तीन को बचाने में सफल रहीं, जबकि कलाश्निकोवा और काटो सभी को सुरक्षित रखने में कामयाब रहीं।

दूसरे सेट में दोनों खिलाड़ियों का प्रदर्शन विरोधी जोड़ी के मुक़ाबले कमज़ोर रहा, जिससे शुरूआती मुकाबले में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। हालांकि कलाश्निकोवा काटो ने पहले, पांचवे और नौंवे गेम में अपने विरोधियों को तोड़ने में कामयाबी हासिल की। वहीं, सानिया और किचनोक ने दूसरे, चौथे और छठे गेम में बेहतरीन प्रदर्शन किया।

मुकाबला 6-6 के समाप्त होने का बाद सेट को डिक्रिपर के पास धकेल दिया गया और साथ ट्राई-ब्रेकर ने भी लोगों को निराश नहीं किया। सानिया और उसकी जोड़ी ने केवल दो बार चौथा और आठवां गेम जीता। जबकि उनके विरोधियों को सभी गेम में निराशा झेलनी पड़ी। इंडो-जापानी जोड़ी को 6-2 पर सेट प्वाइंट मिला लेकिन उसे सही समय पर भुना नहीं पाए क्योंकि उनके विरोधियों को एक बार टाई-ब्रेकर 7-3 और दूसरा 7 (7)-6 (3) से जीतना था।

मुकाबले के खत्म होने से पहले दूसरे सेट के प्रदर्शन ने सानिया और उनके साथी में विश्वास पैदा हुआ। जिसकी वजह से तीसरे सेट उनकी कोई गलती देखने को नहीं मिली। वहीं, तीसरे सेट में सानिया और किचनोक को तीन बार झटका लगा। जबकि कलाश्निकोवा और काटो से 7 बार मैच हारने वाले खिलाड़ी को 10-3 से पराजित किया।

सानिया मिर्ज़ा का अब अगला मुकाबला अमेरिका की वानिया किंग और क्रिस्टीना मैकहेल से होगा। जिन्होंने अपने शुरूआती मुकाबले में चौथी वरीयता प्राप्त स्पेन की जोड़ी को 6-2, 7-5 से मात दी थी।

अंकिता रैना हुईं बाहर

इस बाच मेलबर्न में अंकिता रैना आस्ट्रेलियन ओपन क्वालीफायर के शुरूआती दौर में हार का सामना करना पड़ा। क्योंकि वो बुल्गारिया की विक्टोरिया तोमोवा से 2-6, 6-7 से हार गई, जिसकी वजह से अगले मुकाबले से बाहर हो गईं हैं।

डब्ल्यूटीए चार्ट में शीर्ष स्थान पर काबिज रैना ने अपने मुकाबले की कठिन शुरुआत की थी, क्योंकि तोमोवा ने शुरुआती गेम में अपने प्रतिद्वंद्वी को 2-0 की बढ़त लेने से पहले अपने तोड़ दिया था।

मुकाबले में बुल्गेरियन ने हार मानने का नहीं ठाना और पांचवीं में रैना से 4-1 से बढ़त ली और सेट को भारतीय की पहुंच से बाहर कर दिया। वहीं, दूसरे सेट में जाने के लिए बुल्गेरियाई टीम ने 6-2 से बढ़त ली।

27 वर्षीय भारतीय खिलाड़ी ने दूसरे सेट में 2-0 से बढ़त ली लेकिन भारतीय खिलाड़ी उस प्रदर्शन को बरकरार नहीं रख सके जिसकी वजह से इस एक घंटे और 47 मिनट का मुकाबले एक अलग दिशा में चला गया।