सानिया मिर्ज़ा और पीवी सिंधु ने की लॉकडाउन की इस घड़ी में दिहाड़ी मज़दूरों की आर्थिक मदद

कोरोना वायरस की वजह से भारत सरकार ने पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन का फ़ैसला किया है

लेखक सैयद हुसैन ·

भारत के दिग्गज एथलीट सानिया मिर्ज़ा (Sania Mirza), पीवी सिंधु (PV Sindhu), बजरंग पुनिया (Bajrang Punia) के साथ साथ और खिलाड़ियों ने देश में दिहाड़ी मज़दूरों (दैनिक वेतन भोगी श्रमिकों) की आर्थिक मदद करने के लिए आगे आ रहे हैं। भारत ने कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के प्रकोप को रोकने के लिए एहतियाती उपाय के तौर पर पूरे देश में 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की है।

विश्व स्तर पर कोरोना वायरस ने तेज़ी से अपने पांव पसारे हैं, जिसने सभी प्रमुख खेल आयोजनों पर विराम लगा दिया है। जिसके बाद अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) को टोक्यो ओलंपिक 2020 को एक साल के लिए स्थगित करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

इस स्थिति में सभी अपने घरों में बंद हैं, लिहाज़ा भारतीय एथलीट उन दिहाड़ी मज़दूरों की मदद करके अपनी सामाजिक ज़िम्मेदारियों को पूरा करने की एक छोटी सी कोशिश कर रहे हैं जिनकी आय का एकमात्र स्रोत उनकी दैनिक मज़दूरी है, जो लॉकडाउन के बाद बंद हो गई है।

सानिया मिर्ज़ा ने ऐसे मज़दूरों के लिए चंदा देने का वादा करते हुए सफ़ा संगठन का समर्थन करने का फैसला किया है।

सानिया ने कहा कि,  “इस कठिन समय में जब दुनिया इस वायरस की मार झेल रही है तो हम स्थिति के फिर से ठीक होने का इंतज़ार करने के लिए आराम से घर पर बैठे हैं। लेकिन ऐसे हजारों लोग हैं जो इतने भाग्यशाली नहीं हैं लिहाज़ा हमारी जो भी क्षमता हो सकती है, उस हिसाब से उनकी देखभाल करने की कुछ ज़िम्मेदारी हमारी भी है।‘'

सानिया मिर्ज़ा के अलावा, स्टार भारतीय पहलवान बजरंग पुनिया और भारत की नंबर एक शटलर पीवी सिंधु ने भी मदद के हाथ आगे बढ़ाएं हैं।

जहां बजरंग पूनिया ने अपनी आमदनी के छह महीने की कमाई को दान करने का फ़ैसला किया है, तो वहीं पीवी सिंधु ने मुख्यमंत्री राहत कोष के साथ-साथ तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के लिए 15 लाख रुपये देने की बात कही है।

इस तिकड़ी के ओलंपिक स्थान

इन तीनों भारतीय एथलीटों का टोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करना तय है।

सानिया मिर्ज़ा और पीवी सिंधु दोनों ही WTA और BWF रैंकिंग तालिका में क्रमशः आरामदायक पोज़ीशन पर हैं, जिसकी बदौलत उन्हें ओलंपिक का टिकट हासिल है। तो वहीं बजरंग पुनिया ने पिछले साल नूर-सुल्तान में आयोजित हुई वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचकर टोक्यो ओलंपिक में अपना स्थान पक्का कर लिया था।