बेटे इज़हान की एक मुस्कान मेरे सबसे बुरे दिन को भी शानदार बना देती है: सानिया मिर्ज़ा

भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्ज़ा की नकारात्मकता को उनके बेटे इज़हान कर देते हैं दूर।

चिंता और नकारात्मक्ता जैसी मानसिक समस्याएं ज्यादातर लोगों के जीवन का हिस्सा हैं, जिसमें भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा (Sania Mirza) भी शामिल हैं।

लेकिन पहली बार माँ बनने वाली सानिया मिर्ज़ा के 20 महीने का बेटा इज़हान उनके लिए चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए उनकी सबसे बड़ी ताकत बनकर उभरा है।

“नींद न आने के कारण चिंता, घबराहट महसूस करना सामान्य है। ये मैं अपनी अनुभव से कह रही हूं। जब हाल ही में मैं चिंतित होती थी, तो ऐसा कुछ भी नहीं था जो इसका मुक़ाबला करता या मैं उस चिंता से निपट सकती थी।’’

उन्होंने हिंदुस्तान टाइम्स के साथ एक इंटरव्यू के दौरान मेंटल हेल्थ समस्याओं के साथ अपनी खुद की परेशानी को साझा करते हुए कहा, "यह कुछ ऐसा था जो जिंदगी के साथ चल रहा था और मैं इसे छिपाने की कोशिश करती, ताकि कोई पहचान न सके कि मैं चिंतित हूं।"

इस बात को स्वीकार करते हुए कि ये भी एक मुद्दा है और इसके बारे में बात करते हुए सानिया मिर्ज़ा महसूस करती हैं, कि इन स्थितियों से निपटने के लिए पहले खुद की मदद करनी होगी।

रियो ओलंपिक 2016 मिश्रित युगल की सेमीफाइनलिस्ट ने कहा कि, “अपनी पूरी जिंदगी में हम हम अन्य चीजों के साथ इतने व्यस्त हैं कि हम अपने मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल करना भूल जाते हैं। उदास महसूस करना या रोना बिल्कुल ठीक है।”

परिवार और क़रीबी लोगों से बात करें

छह बार के ग्रैंड स्लैम विजेता के अनुसार, इस परिस्थिति से निपटने के लिए क़रीबी दोस्तों और परिवार के साथ इसके बारे में बात करने से मदद मिलती है।

"जब भी ऐसा होता है, तो उस व्यक्ति से बात करें जो आपके करीब है। मैं भी ऐसा करती हूं।’’

भारतीय टेनिस स्टार और उनके पति पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक के बेटे का जन्म अक्टूबर 2018 में हुआ था, जिसका नाम इज़हान मिर्ज़ा मलिक है। सानिया मिर्ज़ा के लिए उनके बेटे ने मानसिक चिंता और नकारात्मक्ता से लड़ने में मदद की है और उनके जीवन में सकारात्मक प्रभाव डाला है।

View this post on Instagram

My happy place 🍫💕 @izhaan.mirzamalik

A post shared by Sania Mirza (@mirzasaniar) on

“मैं अपने परिवार, विशेष रूप से अपने बेटे इज़हान को देखकर काफी मज़बूत महसूस करती हूं। सानिया मिर्जा ने कहा कि मेरा दिन कितना भी बुरा क्यों न हो, उसकी मुस्कान सब कुछ बेहतर बना देती है। "मुझे यकीन है कि हम सभी के पास एक व्यक्ति ऐसा है जो हमें इस तरह से महसूस कराता है। आपको उनको अपने पास रखें।”

मां बनने के बाद, सानिया मिर्ज़ा ने दो साल के लंबे अवकाश के बाद टेनिस कोर्ट पर वापसी की और WTA के कोर्ट में जीत का परचम लहराते हुए वापसी की। जहां उन्होंने जनवरी में यूक्रेनियन पार्टनर नादिया विचेनोक (Nadiia Kichenok) के साथ होबार्ट ओपन युगल का खिताब जीता था।

इस दौरान उनका 18 महीने का बेटा स्टैंड से उनका मैच देख रहा था। उन्होंने भारतीय महिला टीम को अपने फेड कप के प्लेऑफ में पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!