ITTF मेंस वर्ल्ड कप से बाहर हुए भारत के साथियान गनासेकरन 

जर्मनी के पैडलर टिमो बॉल के हाथों 1-4 से हारकर भारत के साथियान गनासेकरन की उम्मीदों को लगा झटका, ITTF मेंस वर्ल्ड कप से बाहर हुए साथियान

लेखक सैयद हुसैन ·

चेंगडू में चल रहे ITTF मेंस वर्ल्ड कप में भारत की सबसे बड़ी उम्मीदों में से एक साथियान गनासेकरन का सफ़र थम गया। नॉक ऑउट फ़ेज़-1 के पहले ही मैच में साथियान को जर्मनी के टिमो बॉल ने 4-1 से हराया। भारतीय पैडलर ने बेहतरीन शूरुआत कर पहला गेम अपने नाम किया। लेकिन इस बढ़त को वह क़ायम नहीं रख पाए और बॉल ने मैच जीतते हुए क्वार्टरफ़ाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली।

दमदार शुरुआत

भारत के साथियान गनासेकरन शुरुआत में जर्मनी के पैडलर पर पूरी तरह हावी नज़र आ रहे थे और पहला गेम 11-7 से अपने नाम भी किया। पहले गेम में साथियान की ताक़त थी उनका बेहतरीन डिफ़ेंस, इस दौरान बॉल के कई शॉट्स बाहर भी गए। भारतीय पैडलर को पहले गेम में एक वक़्त लगातार 4 प्वाइंट्स हासिल हुए और वह पूरी तरह से मैच में पकड़ बनाते दिख रहे थे।

8वीं रैंकिंग वाले बॉल ने अपने अनुभव का बेहतरीन परिचय दूसरे और तीसरे गेम में देते हुए अगले दोनों गेम (11-8, 11-5) जीत लिए। बॉल के तेज़ तर्रार शॉट्स ने साथियान को अब दबाव में ला खड़ा किया था, साथियान के पास इन शॉट्स का मानो कोई जवाब ही नहीं था। जर्मन पैडलर ने दूसरे गेम में अपनी दमदार सर्विस से भी साथियान से मैच दूर लेते जा रहे थे, उन्होंने दूसरे गेम में अपनी सर्विस में 6 प्वाइंट्स हासिल किए, जबकि तीसरे गेम में बॉल को सर्विस में 7 प्वाइंट्स मिले। दूसरी तरफ़ साथियान ने इन दो गेम में अपनी सर्विस में 9 प्वाइंट्स गंवाए, और यही इस मैच में दोनों पैडलर के बीच बड़ा फ़र्क रहा।

अंतिम-16 में भारत के साथियान गनासेकरन की जर्मनी के दिग्गज टिमो बॉल के हाथों 1-4 से हार

बॉल ने पीछे मुड़कर नहीं देखा

साथियान ने वापसी करने की कोशिश तो भरपूर की लेकिन बॉल के बेहतरीन खेल का जवाब उनके पास नहीं था। जर्मन पैडलर ने चौथा गेम भी 11-9 से जीत लिया था और वह अब जीत के बेहद क़रीब पहुंच गए थे। बॉल अपना आक्रामक खेल जारी रखे हुए थे, साथ ही साथ वह अपने स्लाइस शॉट्स का भी इस्तेमाल शानदार अंदाज़ में कर रहे थे, जिस वजह से साथियान को मानो कुछ समझ ही नहीं आ रहा था। हालांकि भारतीय पैडलर ने मैच को आगे बढ़ाने की काफ़ी कोशिश की, ओर लगातार तीन प्वाइंट्स हासिल करते हुए एक समय स्कोर 9-10 तक ले गए। लेकिन बॉल के लूपी शॉट पर वह चकमा खा गए और लगातार तीसरा गेम हार गए।

करो या मरो के पांचवें गेम में साथियान ने शुरुआत शानदार की, जिसके बाद उनकी वापसी की उम्मीद भी जगने लगी थी। एक वक़्त साथियान गेम में 7-5 की बढ़त लिए हुए थे, लेकिन 38 वर्षीय बॉल ने अपना अनुभव दिखाया और लगतार तीन अंक लेते हुए एक बार फिर बढ़त अपने नाम कर ली थी। आख़िरकार बॉल ने पांचवां गेम भी 11-8 से अपने नाम कर लिया और क्वार्टरफ़ाइनल में जगह बना ली जहां अब उनके सामने चीन के फ़ैन ज़ेंडोंग की चुनौती होगी।