कई बार विरोधी के साथ साथ दर्शकों के ख़िलाफ़ भी खेलना पड़ा: सेरेना विलियम्स 

इस अमेरिकी दिग्गज टेनिस खिलाड़ी को लगता है कि उनके खेल को अभी भी वो मुक़ाम नहीं मिला, जिसकी वह हक़दार हैं।

दुनिया की पूर्व नंबर वन टेनिस खिलाड़ी सेरेना विलियम्स (Serena Williams) ने जो नाम खेल की दुनिया में कमाया है, वैसा बहुत कम ही खिलाड़ी कर पाते हैं। इतिहास यूएस ओपन 2020 में इस अमेरिकन स्टार का इंतजार कर रहा है लेकिन इस खिलाड़ी के लिए टेनिस उनकी जिंदगी से बढ़कर है।

साल 1999 में वह ग्रैंड स्लैम एकल खिताब जीतने वाली ओपन एरा की पहली अश्वेत महिला बनीं, 1958 में अल्थिया गिब्सन के बाद  ये कारनामा करने वाली वह पहली अश्वेत महिला थीं।

उस वक्त वह 17 की थीं और अब उनकी उम्र 38 साल है। अब उनके आसपास की पूरी दुनिया ही बदल गई है लेकिन इसके साथ ही उनमें आज भी जीत की वही भूख है।

ब्रायन स्टीवेन्सन (Bryan Stevenson) एक प्रमुख वकील और सामाजिक न्याय कार्यकर्ता के साथ सेरेना के वीकली इंस्टाग्राम लाइव शो के दौरान सेरेना ने कहा कि “आज यह मेरे लिए या मेरे करियर के बारे में नहीं है, बल्कि मैं कोर्ट पर क्या कर सकती हूं, इस बारे में है। जिंदगी एक बॉक्स में गेंदों को मारने से बहुत बड़ी है।”

विलियम्स ने टेनिस कोर्ट पर अपनी पूरी जिंदगी काटी है लेकिन अब वह सामाजिक मुद्दों पर भी काम कर रही हैं। सोशल मीडिया पर 20 मिलियन से भी ज्यादा फॉलोइंग रखने वाली सेरेना इस प्लेटफॉर्म का अच्छा इस्तेमाल कर रही हैं।

यूएस ओपन के दौरान न्यूयॉर्क में जो कुछ भी होता है, वह एक प्रतिष्ठित करियर का उत्सव होगा, जिसने एक खेल को बदल दिया और बहुत कुछ।

घर पर खेलने का फ़ायदा

यूएस ओपन की नई तारीखों के बारे में पहले ही काफी बातचीत हो चुकी है, यह टूर्नामेंट अब 24 अगस्त 2020 से 13 सितंबर तक खेला जाएगा। अब ये देखना होगा कि नए मैदान में सेरेना कैसा प्रदर्शन करती हैं।

आर्थर ऐश स्टेडियम के कोर्ट की जगह ये टूर्नामेंट साल 1978 के बाद डेकोटर्फ की जगह लेकोल्ड में खेला जाएगा। अमेरिकी स्टार इससे पहले एक सप्ताह तक अभ्यास करेंगी, जिसका फायदा उन्हें मिलेगा।

लेकिन कोई भी नियम नहीं तोड़ा गया है और ऐसा पहली बार नहीं होगा जब सेरेना ने विवादों को दूर किया हो, वह कोर्ट पर जनमत की सलाह पर उतरी हैं।

सेरेना ने बातचीत में बताया कि “मैं अपने करियर और अपने जीवन में बहुत कुछ कर चुकी हूं, मैंने ना केवल अपने विरोधी के खिलाफ खेला है बल्कि कई बार दर्शकों के खिलाफ भी मुझे खेलना पड़ा है। निश्चित तौर पर मुझे लाखों करोड़ों फैंस मिले हैं और इसका अनुभव ही अलग है लेकिन ये हासिल करने के लिए मुझे बहुत मेहनत करनी पड़ी है।”

स्टार खिलाड़ी ने बताया कि “मैंने जीवन में हमेशा सीखने की कोशिश की है। एक चीज़ जो मुझे प्यारी लगती है और जिसमें मुझे मजा आता है , वह है आशा। इसका कोई महत्व नहीं है कि आप कितना अच्छा कर रहे हैं, मतलब इससे है कि हम और कितना अच्छा कर सकते हैं।”

  • लंदन 2012 ओलंपिक में सिंगल्स इवेंट में गोल्ड मेडल जीतने के बाद सेरेना विलियम्स

    लंदन 2012 ओलंपिक में सिंगल्स इवेंट में गोल्ड मेडल जीतने के बाद सेरेना विलियम्स

मार्गरेट के रिकॉर्ड की बराबरी कर पाएंगी सेरेना?

सेरेना अपने करियर में अब तक 23 ग्रैंडस्लैम खिताब जीत चुकी हैं और अब उनकी नजर यूएस ओपन जीतकर 24वें खिताब पर है। अगर वह ऐसा करने में सफल रहती हैं तो वह महान खिलाड़ी मार्गरेट कोर्ट के ऑल टाइम रिकॉर्ड की बराबरी कर लेंगी।

लेकिन सेरेना का कहना है कि टेनिस के "मुख्य रूप से श्वेत" दुनिया में उनके संघर्ष की तुलना सही नहीं है।

सेरेना ने कहा कि "सच ये है कि अभी भी मेरी किसी ऐसे व्यक्ति से तुलना होती है, जिसका मैं सम्मान करती हूं, लेकिन मेरी उन लोगों से तुलना कर हो रही है, जो वास्तव में उन परिस्थितियों में नहीं खेले हैं, जिनमें मैंने खेला है।”

सेरेना को लगता है कि उनके खेल को अभी भी वो मुकाम नहीं मिला, जो उन्हें मिलना चाहिए था।

23 ग्रैंडस्लैम जीत चुकी इस खिलाड़ी ने कहा “टेनिस एक मानसिक खेल है और ब्लैक लोग की बॉडी एथलीट्स की तरह होती है, इसलिए जब भी मैं जीत हासिल करती हूं तो लोग मेरे शारीरिक खेल की तारीफ करते हैं लेकिन मैं इसका ज्यादा क्रेडिट अपने दिमाग को देती हूं, मैं आमतौर पर कोर्ट पर अपने दिमाग का ज्यादा इस्तेमाल करती हूं, ज्यादातर शक्तिशाली खिलाड़ी 23 ग्रैंडस्लैम नहीं जीत सकते।”

सेरेना और उनकी बड़ी बहन वीनस ने मिलकर 30 ग्रैंडस्लैम सिंगल्स अपने नाम किए हैं। ये दोनों ही बहनें दुनियाभर के बहुत से लोगों के लिए प्रेरणा है।

हम लोगों को प्रेरणा देना चाहते हैं।

सेरेना ने आगे कहा कि “अब हम जहां हैं, वहां लोगों को प्रेरित कर सकते हैं। क्योंकि जैसा मैंने कहा था कि दिन के अंत में हम जहां हैं और हमने जो हासिल किया है, हम उसके आभारी हैं। मैं आज भी काफी ट्रेनिंग करती हूं और घंटों प्रशिक्षण लेती हूं।”

इसके अलावा उन्होंने कहा कि "लेकिन यह हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है कि किसी और के लिए यह उनके लिए आसान होने जा रहा है। आज यह केवल मेरे या मेरे करियर के बारे में नहीं है, जरूरी ये है कि कोर्ट पर मैं कैसा प्रदर्शन कर रही हूं। जिंदगी एक बॉक्स में गेंदों को मारने की तुलना में बहुत बड़ी है।"

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!