दीपक कुमार ने जीता ब्रॉन्ज़, भारत के लिए हासिल किया 10वां ओलंपिक कोटा

31 वर्षीय दीपक कुमार ने 10 मीटर एयर राइफल में तीसरा स्थान प्राप्त किया, जबकि मनु भाकर ने प्रतियोगिता जीतते हुए गोल्ड हासिल किया।

भारत के निशानेबाज़ों ने दोहा के कतर में 14वीं एशियाई शूटिंग चैंपियनशिप के पहले दिन शानदार प्रदर्शन किया। दीपक कुमार ने 10 मीटर पुरुष एयर राइफल में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतकर 2020 के टोक्यो ओलंपिक के लिए कोटा स्थान हासिल किया। जबकि मनु भाकर ने महिलाओं के 10 मीटर एयर पिस्टल फाइनल में गोल्ड मेडल जीता।

शानदार रहा प्रदर्शन

दीपक ने क्वालिफिकेशन के पहले राउंड में 103.1 के स्कोर के साथ शुरुआत की और धीरे-धीरे बाद के दौर में अपने प्रदर्शन को बेहतर किया। खुद को अच्छी स्थिति में लाने के लिए बाद के राउंड में उन्होंने 104.8, 104.6, 105.0, 105.6 का स्कोर हासिल किया। हालांकि अंतिम क्वालिफिकेशन राउंड में भारतीय निशानेबाज़ को मामूली झटका लगा, उन्होंने 103.7 स्कोर किया। लेकिन फाइनल में उन्हें कोटा स्थान हासिल करने में कोई मुश्किल नहीं हुई। क्योंकि उन्होंने क्वालिफिकेशन राउंड में तीसरा स्थान हासिल किया।

भारत के अन्य राइफल निशानेबाज़ अंकुश जाधव और यश वर्धन क्वालिफिकेशन राउंड तक नहीं पहुंच सके। वह क्रमशः 14वें और 30वें स्थान पर रहे।.

दीपक ने फाइनल में भी अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखा। उन्होंने एशियाई चैंपियनशिप में बॉन्ज़ मेडल जीतने के लिए 227.8 का स्कोर हासिल किया। चीनी निशानेबाज़ लियू युकुन और यू हैनान ने क्रमशः गोल्ड और सिल्वर मेडल जीते।

बॉन्ज़ के साथ दीपक ने भारत के लिए 10वां ओलंपिक कोटा हासिल किया और 2020 टोक्यो खेलों के लिए 10 मीटर एयर राइफल श्रेणी में देश के लिए अपनी भागीदारी सुनिश्चित की।

भाकर ने हासिल किया गोल्ड

भारत के निशानेबाज़ी दल के लिए जश्न मनाने का एक और कारण युवा निशानेबाज़ भाकर बनीं। उन्होंने अपना पहला एशियाई चैंपियनशिप गोल्ड मेडल जीता।

टोक्यो 2020 में भारत के लिए मनु भाकर मेडल जीतने की रेस में सबसे आगे
टोक्यो 2020 में भारत के लिए मनु भाकर मेडल जीतने की रेस में सबसे आगेटोक्यो 2020 में भारत के लिए मनु भाकर मेडल जीतने की रेस में सबसे आगे

17 वर्षीय ने शानदार प्रदर्शन किया और क्वालिफिकेशन राउंड के बाद स्कोर बोर्ड पर शीर्ष पर रहने के लिए 97, 97, 99, 96, 96, 99 के स्कोर के साथ 584 की टैली के साथ अपने खेल को समाप्त किया।

यशस्विनी देसवाल, जिन्होंने ISSF रियो वर्ल्ड कप में कोटा स्थान हासिल किया था और 578 के स्कोर के साथ फाइनल में भी जगह बनाई थी। वह एशियाई चैंपियनशिप के फाइनल में उस निरंतरता को दोहराने के लिए संघर्ष करती नज़र आईं और छठे स्थान पर रहीं। वहीं भाकर इस प्रतियोगिता में अजेय रहीं। 2018 राष्ट्रमंडल खेलों की गोल्ड मेडल विजेता ने फाइनल में 244.3 अंक हासिल करते हुए शानदार गोल्ड मेडल हासिल किया

पांचवें स्थान पर रहीं इलावेनिल वलारिवन

महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल में भारतीय निशानेबाज़ों का प्रदर्शन कुछ ख़ास नहीं रहा। इलावेनिल वलारिवन पांचवें स्थान पर रहीं। शीर्ष दस में तीन निशानेबाज़ों के पहुंचने के बावजूद, भारतीय प्रतिभागी जूझते हुए नज़र आए। एशियन चैंपियनशिप में अंजुम मौदगिल और अपूर्वी चंदेला क्रमशः 9वें और 12वें स्थान पर रहीं। लेकिन दोनों ही निशानेबाज़ क्वालिफिकेशन राउंड को पार करने में असमर्थ रहीं।

क्वालिफिकेशन राउंड में वलारिवन 629 के स्कोर के साथ चौथे स्थान पर रहीं। लेकिन फाइनल में वह अपने प्रदर्शन को बेहतर करने में असमर्थ रहीं और 187.1 के स्कोर के साथ उन्होंने पांचवें स्थान पर अपने खेल को खत्म किया। आपको बता दें चीन के यांग कियान ने गोल्ड मेडल जीता जबकि सिंगापुर की टेसा नियो ने सिल्वर मेडल हासिल किया।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!