टोक्यो ओलंपिक में जगह बनाने के लिए दिल्ली वर्ल्ड कप होगा अहम

विश्व शूटिंग संगठन ने ये भी साफ़ कर दिया है कि निशानेबाज़ जून में ख़त्म हो रहे क्वालिफ़िकेशन पीरियड से पहले ISSF इवेंट से मिनिमम क्वालिफ़िकेशन स्टैंडर्ड हासिल कर सकते हैं।

लेखक सैयद हुसैन ·

बुधवार को अंतरराष्ट्रीय शूटिंग स्पोर्ट्स फ़ेडरेशन (ISSF) ने इस बात की घोषणा कर दी है कि अगले साल नई दिल्ली में होने वाले वर्ल्ड कप से ही तय होगा कि टोक्यो 2020 में किन किन शूटरों को जगह मिलेगी।

इस महीने की शुरुआत में ही नई दिल्ली को 19 मार्च से 28 मार्च 2021 के बीच ISSF शूटिंग वर्ल्ड कप की मेज़बानी मिली थी।

ISSF ने साफ़ कहा कि भारत में होने वाला ये वर्ल्ड कप टोक्यो 2020 का सपना संजोए शूटरों के लिए बेहद अहम होगा। जिन शूटर्स को अभी भी टोक्यो का टिकट नहीं मिला है वह इस प्रतियोगिता के ज़रिए अपनी रैंकिंग के अनुसार ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई कर सकते हैं।

साथ ही साथ सभी प्रतिभागी ISSF चैंपियनशिप में हिस्सा लेते हुए 6 जून की क्वालिफ़िकिशन पीरियड के अदंर मिनिमम क्वालिफ़िकेशन स्टैंडर्ड (MQS) भी हासिल कर सकते हैं।

MQS एक न्यूनतम स्कोर है, जिसे प्रत्येक इवेंट में ISSF द्वारा निर्दिष्ट किया जाता है। जहां पहले से निर्धारित क्वालिफ़िकेशन पीरियड के अंदर शूटर उसे प्राप्त करते हुए ओलंपिक में जगह बना सकते हैं।

अगले साल होने वाले पांच में एक ISSF वर्ल्ड कप की मेज़बानी नई दिल्ली के पास है।

अगले साल दिल्ली में होने वाले वर्ल्ड कप के अलावा चार और वर्ल्ड कप होंगे जिनकी मेज़बानी दक्षिण कोरिया (चांगवोन), अज़ेरबाइजान (बाकू), मिस्र (काहिरा) और इटली (लोनाटो) को मिली है।

भारत ने अब तक टोक्यो 2020 के लिए 15 कोटा स्थान हासिल कर लिए हैं, जो एक भारतीय रिकॉर्ड है। रियो 2016 में जितने भारतीय शूटरों ने हिस्सा लिया था अभी ही उनसे ये आंकड़ा तीन ज़्यादा है। इस फ़ेहरिस्त में वर्ल्ड नंबर-12 पिस्टल शूटर अनीश भानवाला (Anish Bhanwala) का नाम जुड़ना भी क़रीब-क़रीब तय है।

अभी तक भारत की ओर से 7 महिला शूटर्स और 8 पुरुष शूटरों ने टोक्यो ओलंपिक का टिकट हासिल किया है। इनमें से 7 रायफ़ल, 6 पिस्टल और 2 स्कीट कैटेगरी के अंदर हैं।

शूटिंग कैंप के लिए कोचों का बुलावा

इस बीच, नेशनल रायफ़ल एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (NRAI) ने रायफ़ल, पिस्टल और शॉटगन कोचों को कहा है कि ओलंपिक के संभावितों के लिए जल्दी ही एक कैंप लगाएं।

हालांकि इस महीने कोर ग्रुप के लिए कैंप प्रस्तावित था लेकिन कोरोना वायरस (COVID-19) के बढ़ते प्रकोप की वजह से उसे स्थगित करना पड़ा। ये कैंप दिल्ली के डॉ. करणी सिंह शूटिंग रेंज में लगना था।

जुलाई में इस रेंज को दोबारा खोला गया था जहां कुछ शूटर्स कड़े प्रोटोकॉल के साथ अभ्यास करने जाते हैं।

इससे पहले NRAI ने 32 शूटरों के एक कोर ग्रुप की घोषणा की थी जिसमें कुल 32 शूटर्स शामिल हैं जो जून तक होने वाले अलग अलग 9 इवेंट्स में शामिल होंगे और टोक्यो 2020 का टिकट हासिल करने की कोशिश करेंगे।