सैयद मोदी इंटरनेशनल में वर्मा की हार और मारिन ने जीता एक और खिताब 

सैयद मोदी इंटरनेशनल चैंपियनशिप में सौरभ वर्मा फाइनल में हारकर ख़िताब जीतने से वंचित रह गए।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

लखनऊ में चल रही सैयद मोदी इंटरनेशनल चैंपियनशिप में रविवार का दिन भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों के लिए मिले-जुले परिणामों वाला रहा। स्टार खिलाड़ी सौरभ वर्मा के सेमीफाइनल में 75 मिनट चले कड़े मुकाबले में जीत के बाद उनसे ख़िताब की उम्मीदें काफी बढ़ गई थीं। आज वर्मा का फाइनल मुकाबला चीन के वांग ज़ू वेइ से हुआ। दोनों ही खिलाड़ियों की नज़र प्रतियोगिता को जीतकर अपनी साख जमाने की थी, लेकिन इस बार भारत को निराशा हाथ लगी।

वूमेंस सिंगल्स के फाइनल मुकाबले में कैरोलिना मारिन ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 21-12, 21-16 से थाईलैंड की फितायापॉर्न चाइवान को मात दी।

वर्मा ने तोड़ी आस

पहले गेम में वर्मा बैकफुट पर दिखाई दिए। 1-3 से पीछे रह जाने के बाद भारतीय शटलर ने खेल में वापसी करने की कोशिश की और 7-4 से बढ़त बनाई। इसके बावैंग ने नेट के पास आकर खेलना शुरू किया और वर्मा को लगातार परेशानियों में डालने की कोशिश की। इसके बाद वर्मा के कुछ उम्दा ड्रॉप शॉट्स ने उन्हें आधे समय तक 11-10 की बढ़त पर कायम रखा।

खेल दोबारा शुरू हुआ और इस दफा वैंग ने उच्च कोटि का प्रदर्शन किया और गेम को 18-13 से अपने कब्ज़े में कर लिया। इस चीनी ताइपे खिलाड़ी ने अपनी अच्छी लय जारी रखते हुए पहला गेम 21-15 से जीत लिया। 

दूसरी गेम में वैंग ने शुरुआत से ही आक्रामक तेवर दिखाए और वर्मा को 5-0 से पीछे कर दिया। भारतीय शटलर के पास इस चीनी ताइपे के प्रहारों का कोई जवाब नहीं था। वर्मा ने हिम्मत न छोड़ते हुए कुछ अंक अंकित किए और आधे समय तकवैंग केवल तीन अंकों से आगे थे। खेल दोबारा शुरू हुआ और भारतीय खिलाड़ी ने दमख़म दिखाते हुए स्कोर को 13-13 से बराबर कर दिया। लेकिन इसके बाद वह सिर्फ दो ही अंक प्राप्त कर पाए और फाइनल स्कोर 21-17 से वै के हक में गया। सैयद मोदी इंटरनेशनल चैंपियनशिप के फाइनल में सौरभ वर्मा भले ही हार गए हों, लेकिन उन्होंने अपने उज्जवल भविष्य का प्रमाण ज़रूर दिया।

मारिन का मैजिक

ओलंपिक गेम्स की विजेता रह चुकीं कैरोलिना मारिन ने सेमीफाइनल में आक्रामक खेल दिखाते हुए फाइनल में अपनी जगह बनाई थी। मारिन की भिड़ंत फाइनल में फितायापॉर्न चाइवान से होने जा रही थी। चाइवान जो कि 2019 स्पेनिश इंटरनेशनल विजेता हैं वह अपनी प्रतिद्वंदी को कड़ी टक्कर नहीं दे पाईं और मध्य समय तक वह 6-11 से पीछे चल रहीं थीं। इसके बाद मारिन ने खेल को ज़्यादा न खींचते हुए 21-12 से गेम को अपने नाम किया और अपने मनोबल को सातवें आसमान पर रखा। 

दूसरी गेम में चाइवान में एक अलग ही जोश दिखा और उन्होंने आधे समय तक 11-6 की बढ़त बना ली। खेल के दोबारा शुरू होने के बाद चाइवान ने चतुराई भरे शॉट्स खेलने शुरू किए। चाइवान द्वारा लगातार मारिन को फॉलो किया जा रहा था और हमेशा उन्होंने उनकी विपरीत जगह पर ही शटल को गिराने की कोशिश की।  

अब बारी थी मारिन को अपने तजुर्बे का प्रयोग करने की और उन्होंने ठीक वैसा ही किया और बता दिया की वे तीन बार की वर्ल्ड चैंपियन कड़ी मेहनत के बाद बनीं है। अब स्कोर 11-11 से बराबर था और दोनों ही खिलाड़ियों को जीत की बेहद ज़रूरत थी। फुर्ती दिखाते हुए मारिन ने गेम को अपने कब्ज़े में किया और वे बन गईं सैयद मोदी इंटरनेशनल चैंपियनशिप की विजेता। 

चाइना ओपन 2019 जीतने के बाद कैरोलिना मारिन ने इस साल की दूसरी बड़ी प्रतियोगिता सैयद मोद इंटरनेशनल चैंपियनशिप के रूप में जीती।