महामारी के दौरान खेल जगत से मिल रही महत्वपूर्ण राहत

इस दौरान हॉकी इंडिया ने टोक्यो ओलंपिक के लिए बेंगलुरु में आइसोलेशन अभ्यास जारी रखा है।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

भारत सरकार ने भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) को सूचित किया है कि आने वाले समय में अगर कोरोना वायरस पॉजिटिव मामलों में वृद्धि होती है तो COVID-19 महामारी से लड़ने के लिए स्टेडियम और उनके अंतर्गत आने वाले खेलों के हॉस्टल्स को क्वारंटाइन स्थल के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

SAI के भारत में 10 क्षेत्रीय केंद्रों के साथ-साथ नई दिल्ली में पांच स्टेडियम हैं और यह ’न्यूनतम 2,000 आइसोलेशन बेड उपलब्ध करा सकता है।

“यह एक आपातकालीन स्थिति है।” खेल सचिव राधेश्याम जुलानिया (Radhey Shyam Julaniya) के हवाले से कहा गया है कि सार्वजनिक स्वास्थ्य के हित में जो कुछ भी आवश्यक है, उसे उपलब्ध कराया जाएगा।

कुछ देशों में COVID-19 महामारी से लड़ने के लिए स्टेडियम और उनके अंतर्गत आने वाले खेलों के हॉस्टल को क्वारंटाइन स्थल के रूप में बदला जा रहा है

ये भी बताया गया कि रोहतक जिला प्रशासन अगर SAI से मदद मांगेगा तो आपात स्थिति में राष्ट्रीय बॉक्सिंग अकादमी भी उपलब्ध होगी।

राधेश्याम जुलानिया ने कहा, "हमने सभी को सूचित किया है कि हम इसमें संकोच नहीं करेंगे और जो कुछ भी जरूरत की चीजें हैं, उन्हें उपलब्ध कराएंगे।"

दूसरी ओर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को घोषणा की है कि हावड़ा के बहुउद्देश्यीय इनडोर डुमुरजला स्टेडियम को मदद के लिए 150-बेड वाले क्वारंटाइन केंद्र में परिवर्तित किया जाएगा।

हमने सुना कि डुमुरजोला स्टेडियम को हावड़ा में हाल ही में बनाया गया है लेकिन अभी तक कोई खेल इवेंट का आयोजन नहीं हो पाया है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें वहां और अधिक बेड की व्यवस्था करनी चाहिए और बाद में हम इसे पहले की तरह वापस लौटाएंगे।

महाराष्ट्र सरकार ने भी बालेवाड़ी स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स को 500 बेड वाले एक क्वारंटाइन स्थल में परिवर्तित करने का फैसला लिया है।

इससे पहले मंत्रालय ने SAI केंद्रों पर चल रहे सभी शिविरों को बंद कर दिया था, जिसके बाद खिलाड़ियों को तुरंत परिसर खाली करने और 15 अप्रैल तक सभी घरेलू टूर्नामेंट और राष्ट्रीय चयन ट्रायल्स को स्थगित करने का आदेश दिया गया था।

हालांकि ओलंपिक-बाउंड एथलीटों और टोक्यो 2020 के लिए टिकट हासिल करने की उम्मीद करने वालों को बैंगलोर एसएआई केंद्र, पटियाला में राष्ट्रीय खेल संस्थान और सोनीपत में खिलाड़ियों को अपनी ट्रेनिंग जारी रखने की अनुमति दी गई है।

हॉकी इंडिया ने टोक्यो के लिए तैयारी रखी जारी

ये शिविर भारत के पुरुष और महिला हॉकी खिलाड़ियों के लिए समान रुप से काम करता है, जहां बेंगलुरु के SAI सेंटर के अंदर रहते हुए खिलाड़ी टोक्यो ओलंपिक के लिए अपनी ट्रेनिंग और तैयारी जारी रखे हुए हैं।

भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह (Manpreet Singh) ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया को बताया, “COVID-19 के प्रकोप ने हमारे अभ्यास सत्रों को प्रभावित नहीं किया है। हम लगातार अपने हाथ धो रहे हैं और हमारे शरीर के तापमान को नियमित रूप से जांच रहे हैं।”

2019 एफआईएच प्लेयर ऑफ द ईयर (2019 FIH Player of the Year ) ने आगे कहा, “हमारे SAI परिसर के अधिकारी ये सुनिश्चित कर रहे हैं कि हम सुरक्षित वातावरण में प्रशिक्षण ले रहे हैं। SAI और हमारे कोचों के समर्थन के साथ, हम ओलंपिक के लिए बहुत कठिन प्रशिक्षण ले रहे हैं।”

महिला टीम की कप्तान रानी रामपाल (Rani Rampal) ने कहा कि भारत सौभाग्यशाली है कि वो अभी भी अभ्यास करने और सुरक्षित परिवेश में प्रशिक्षण जारी रखने में सक्षम है।

रानी रामपाल ने कहा, “हम बहुत भाग्यशाली हैं कि यहां के SAI कैंपस जैसी सुविधा से लैस वातावरण में अभ्यास कर रहे हैं। सभी लोग बहुत मेहनत कर रहे हैं ताकि हॉकी टीमें ओलंपिक के लिए अभ्यास जारी रख सकें। हमारे स्वास्थ्य की हर दिन निगरानी की जा रही है और हम सभी आवश्यक सावधानी बरत रहे हैं।”

अगले कुछ दिनों में कोरोना वायरस से पीड़ितों की संख्या बढ़ने के साथ भारत में लगभग 500 सकारात्मक मामलों की पुष्टि की गई है।