खेल मंत्री किरेन रिजिजू की भारत के हर जिले में कम से कम एक खेलो इंडिया खेल केंद्र खोलने की मंशा

रिजिजू ने पुणे में खेलो इंडिया राज्य उत्कृष्टता केंद्र के उद्घाटन समारोह में 2028 के ओलंपिक की तैयारियों का किया खुलासा  

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

केंद्रीय युवा मामले और खेल राज्य मंत्री किरेन रिजिजू लॉस एंजिल्स 2028 ओलंपिक की पदक तालिका में भारत को शीर्ष 10 में लाने का उद्देश्य लेकर चल रहे हैं। इसे को संभव बनाने के लिए खेल मंत्रालय ने देश में जिला स्तर पर 1000 खेलो इंडिया के खेल केंद्र शुरू करने का फैसला किया है।

सोमवार को पुणे में रिजिजू ने कहा, "हम देशभर में जिला स्तर पर 1000 खेलो इंडिया स्पोर्ट्स सेंटर शुरू करना चाहते हैं। देश में करीब 700 जिले हैं, इस लिहाज से हर जिले कम से कम एक केंद्र होगा और कुछ जिलों में एक से अधिक भी हो सकते हैं।"

रिजिजू ने पुणे के महालुंगे-बालेवाड़ी में श्री शिव छत्रपति स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में खेलो इंडिया राज्य उत्कृष्टता केन्द्र (KISCE) का उद्घाटन किया, जिससे क्षेत्र के एथलीटों को विश्व स्तरीय सुविधाएं मिल सके।

उन्होंने कहा, "मुम्बई और पुणे में बहुत प्रतिभाएं हैं। राज्य के विदर्भ, मराठवाड़ा, कोंकण या किसी भी क्षेत्र में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। हम खेल की परंपरा के बारे में तो बात करते हैं, लेकिन हमारे पास खेलों की एक मजबूत संस्कृति नहीं है। इसलिए लोगों में एक मजबूत खेल संस्कृति जाग्रत करने की दिशा में काम करने की जरूरत है।" 

उन्होंने आगे कहा, "खेलों का समर्थन करने के लिए हम कम से कम उन्हें देखने के साथ शुरू कर सकते हैं। क्रिकेट लोकप्रिय है, क्योंकि लोग इसे देखना पसंद करते हैं। लीग देखकर हमने कबड्डी को भी लोकप्रिय बनाया है। इसी तरह हमें दूसरे खेलों को भी देखना चाहिए।"

उन्होंने कहा कि देश में अब तक 23 राज्य उत्कृष्टता केन्द्र हैं इनमें से तीन महाराष्ट्र में हैं। प्रतिभा पहचान प्रक्रिया खत्म होने के बाद निशानेबाजी, साइकिलिंग और एथलेटिक्स में से प्रत्येक से 30 एथलीट इससे लाभान्वित होंगे। बालेवाड़ी में परियोजना की कुल लागत 38.02 करोड़ रुपये होगी।

केंद्रीय युवा मामले और खेल राज्य मंत्री किरेन रिजिजू 

रिजिजू को उम्मीद है कि सभी प्रयासों की बदौलत भारत 2024 के पेरिस ओलंपिक में काफी सुधार करेगा।

उन्होंने कहा, "अगर भारत 2028 के ओलंपिक में शीर्ष 10 में नहीं रहा तो उन्हें खेल मंत्री रहने का कोई महत्व नहीं है। इतना ही नहीं रिजिजू ने यह भी कहा कि अगर ऐसा संभव नहीं हुआ तो बतौर खेल मंत्री के रूप उनके कार्यकाल को नहीं गिना जाय। खेल मंत्री बनने के तीन महीने बाद ही मैंने घोषणा की थी कि भारत लॉस एंजिल्स ओलंपिक 2028 में शीर्ष 10 में होगा। इसको लेकर हमने पहले ही तैयारी शुरू कर दी है।"

उन्होंने कहा, "खेल के क्षेत्र में जो विकास हो रहा है, उसका प्रभाव आर 2024 के पेरिस ओलंपिक में जरूर दिखेगा। 2021 में टोक्यो ओलंपिक होने वाला है। हम यह नहीं कह रहे हैं कि हम चैंपियन होंगे। मगर जो इस ओलंपिक में भाग लेने जा रहे हैं, उसे हम हर तरह की मदद करेंगे।" 

उन्होंने खेल सुविधाओं का नाम देश के लिए योगदान देने वाली प्रसिद्ध हस्तियों को सम्मानित करने के लिए के उनके नाम पर रखने की भी घोषणा की।

उन्होंने घोषणा की, "हमने खिलाड़ियों का सम्मान करने के लिए कुछ नीतियां बनाई हैं, चाहे वो पूर्व खिलाड़ी हो या वर्तमान खिलाड़ी। कल मैंने ट्वीट के माध्यम से घोषणा की थी कि हम सभी सुविधाओं का नाम खिलाड़ियों के नाम पर रखेंगे। हमने इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है और बहुत जल्द ही इनके नाम दिये जाएंगे।"