दुबई में वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स ग्रां प्री में भारतीय चुनौती का नेतृत्व करेंगे सुंदर गुर्जर और संदीप चौधरी   

कोरोना महामारी के बाद टोक्यो ओलंपिक में हो रहे पहले पैरा खेल आयोजन के लिए स्थान पक्का करने वाले दावेदारों की भारत में लम्बी फेहरिस्त  

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

विश्व चैंपियन भाला फेंक खिलाड़ी सुंदर सिंह गुर्जर (Sundar Gurjar) (F-46) और संदीप चौधरी (Sandeep Chaudhary) (F-44) टोक्यो पैरालंपिक क्वालीफिकेशन टूर्नामेंट, 12वीं फ़ैज़ा इंटरनेशनल वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स ग्रैंड प्रिक्स में भारत की चुनौती पेश करेंगे। इस टूर्नामेंट का आयोजन दुबई में 10 से 13 फरवरी के बीच होगा।

कोरोना महामारी के कारण जब पूरी दुनिया थम सी गई थी, उन स्थितियों से बाहर आने के बाद यह पहला अंतरराष्ट्रीय पैरा-खेल आयोजन है।

गुर्जर और चौधरी के अलावा ऊंची कूद खिलाड़ी शरद कुमार (T-42) और निषाद कुमार (T-47), भाला फेंक खिलाड़ी अजीत सिंह (F-46) और डिस्कस थ्रोअर योगेश कथुनिया (F-56) भी इस आयोजन में भाग लेंगे।  

जबकि, कशिश लकड़ा (डिस्कस एंड क्लब थ्रो F-51), श्वेता शर्मा (भाला फेंक F-55) और सिमरन (100 मीटर, 400 मीटर T-13) के रूप में अन्य प्रतिभागी हैं जिनसे भी अच्छा प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है। इस टोक्यो क्वालीफाइंग इवेंट में 63 देशों के 600 से अधिक पैरा एथलीटों के भाग लेने की उम्मीद जताई जा रही है। इस प्रतियोगिता की मेजबानी दुबई स्पोर्ट्स काउंसिल द्वारा की जा रही है, जिसका नेतृत्व काउंसिल के अध्यक्ष शेख मंसूर बिन राशिद अल मकतूम कर रहे हैं।

गुर्जर ने कहा, "मैं लंबे समय के बाद अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में वापसी करके बहुत खुश हूं। 2019 की विश्व चैंपियनशिप के साथ अच्छी यादें जुड़ी हुई है। मुझे इस बार और भी बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। मैं अपने आयोजन में अपनी नंबर 1 विश्व रैंकिंग को बनाए रखने की पूरी कोशिश करूंगा।"

एक प्रतियोगिता के दौरान भाला फेंकते सुंदर सिंह गुर्जर

उन्होने कहा, "यह आयोजन टोक्यो 2020 के लिए हमारी तैयारियों को देखते हुए और भी महत्वपूर्ण है। क्योंकि हम एक साल से भी ज्यादा समय बाद अब अभ्यास कर पा रहे हैं।" 

चौधरी के लिए यह एक खुशियां देने वाला मैदान रहा है। क्योंकि उन्होंने 2019 में इसी स्थान पर विश्व चैंपियनशिप जीती थी। 

उन्होंने कहा, "इस मैदान के साथ मेरी विशेष यादें जुड़ी हैं। मैं इस बार भी अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद कर रहा हूं। हालांकि मेरा लक्ष्य टोक्यो 2020 में अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देना है। यह सभी खिलाड़ियों को उनकी लय पाने के लिहाज से महत्वपूर्ण टूर्नामेंट है। क्योंकि कोरोना महामारी के कारण सभी प्रशिक्षण और टूर्नामेंटों पर रोक लग गई थी। आखिरकार प्रतिस्पर्धा में वापसी होने से मैं काफी खुश हूं।" 

राष्ट्रीय पैरा एथलेटिक्स कोच सत्यनारायण ने कहा, "हम कम से कम छह अतिरिक्त कोटा स्थान सुरक्षित करना चाहते हैं।"