ओलंपिक चैंपियन अभिनव बिंद्रा और निकोलो कैंप्रियानी ने ओलंपिक खेलों से पहले अच्छी नींद के लिए साझा किए अपने-अपने राज़

‘टेकिंग रेफ़्यूजी’ के मेज़बानों ने Airbnb के अनुभव के आधार पर 'तनाव को कैसे दूर किया जाए' सत्र की मेज़बानी की।

ओलंपिक चैनल की ओरिजिनल सीरीज़ टेकिंग रेफ़्यूजी: टारगेट टोक्यो 2020 के दोनों ही स्टार अभिनव बिंद्रा (Abhinav Bindra) और निकोलो कैंप्रियानी (Niccolo Campriani) ने एक बार फिर अपने अनुभव साझा किए। इस बार इन्होंने एक ऑनलाइन सत्र के ज़रिए तनाव को कैसे दूर किया जाए इसपर अपनी-अपनी राय रखी और दर्शकों को स्ट्रेस मैनेजमेंट की बारीकियों को समझाया।

AirBnb के शो ‘ओलंपिक गेम्स से पहले की रात अच्छी नींद कैसे ली जाए' में अपने अनुभव साझा करते हुए ओलंपिक एयर राइफ़ल चैंपियन्स ने बताया कि कैसे आपको अपने अंदर चल रही भावनाओं और दबाव से पार पाना ज़रूरी होता है।

कैंप्रियानी ने बताया कि वह कैसे अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दबाव पर काबू पाते हैं।

यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि जो आप चाहते हैं वह आपके नियंत्रण से बाहर की किसी चीज़ का परिणाम न हो। - निकोलो कैंप्रियानी

AirBnb के शो ‘ओलंपिक गेम्स से पहले की रात कैसे सोया जाए’ में अपने अनुभव साझा करते हुए ओलंपिक एयर रायफ़ल चैंपियन्स ने बताया कि कैसे आपको अपने अंदर चल रही भावनाओं और दबाव से पार पाना ज़रूरी होता है।

कैंप्रियानी ने बताया कि वह कैसे अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दबाव पर नियंत्रण करते हैं।

यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि जो आप चाहते हैं वह आपके नियंत्रण से बाहर की किसी चीज़ का परिणाम न हो। - निकोलो कैंप्रियानी

अभिनव बिंद्रा और निकोलो कैंप्रियानी मार्क ए मार्क ’प्रोजेक्ट पर एक साथ काम कर रहे हैं, तीन शरणार्थी निशानेबाजों को टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफिकेशन दिलाने की एक पहल के साथ इसकी शुरूआत हुई थी।
अभिनव बिंद्रा और निकोलो कैंप्रियानी मार्क ए मार्क ’प्रोजेक्ट पर एक साथ काम कर रहे हैं, तीन शरणार्थी निशानेबाजों को टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफिकेशन दिलाने की एक पहल के साथ इसकी शुरूआत हुई थी।अभिनव बिंद्रा और निकोलो कैंप्रियानी मार्क ए मार्क ’प्रोजेक्ट पर एक साथ काम कर रहे हैं, तीन शरणार्थी निशानेबाजों को टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफिकेशन दिलाने की एक पहल के साथ इसकी शुरूआत हुई थी।

एक घंटे लंबे इस सत्र के दौरान इन दोनों ने अपने अपने ओलंपिक लम्हों को याद किया और बताया कि आख़िरी शॉट लगाने के समय उनके दिमाग़ में क्या चल रहा था।

बिंद्रा ने ख़ुलासा करते हुए बताया कि वह अपने करियर के दौरान आत्मविश्वास से जूझ रहे थे। अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद उन्हें ख़ुदपर भरोसा नहीं होता था, लिहाज़ा उन्होंने इसके बारे में सोचना छोड़ दिया था।

मेरा लक्ष्य पदक जीतना नहीं था, बल्कि मैंने ये ठान लिय़ा था कि मैं हरेक शॉट अपनी योग्यता के हिसाब से लगाऊंगा। – अभिनव बिंद्रा

अभिनव बिंद्रा टेकिंग रेफ़्यूजी
अभिनव बिंद्रा टेकिंग रेफ़्यूजीअभिनव बिंद्रा टेकिंग रेफ़्यूजी

एकमात्र भारतीय जिन्होंने ओलंपिक में व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीता है, वह बता रहे हैं कि बीजिंग 2008 में उन्होंने क्या अलग किया था जिसने 2004 ओलंपिक गेम्स की निराशा को पीछे छोड़ दिया।

बिंद्रा ने ख़ुलासा करते हुए बताया कि एथेंस 2004 फ़ाइनल की निराशा के बाद उन्होंने हिलती हुई टाइल्स पर अभ्यास किया। इतना ही नहीं उन्होंने अपने घर के पास एक बड़ा शादी घर भी किराए पर लिया और वहीं अभ्यास करते थे ताकि उन्हें ओलंपिक शूटिंग एरिना जैसा माहौल मिल सके।

यहां तक कि मैंने बीजिंग ओलंपिक से पहले जंगली भैंसे का दूध पीना शुरू कर दिया था, क्योंकि मैंने सुना था कि इससे एकाग्रता बढ़ती है। – अभिनव बिंद्रा

बिंद्रा और कैंप्रियानी का अगला लक्ष्य

टेकिंग रेफ़्यूजी: टारगेट टोक्यो 2020 के ज़रिए कैंप्रियानी अपने ही शूटिंग इवेंट 10 मीटर एयर रायफ़ल में तीन रेफ़्यूज़ियों को ओलंपिक में क्वालिफ़ाई कराने की कोशिश में हैं।

पांच एपिसोड वाली ओलंपिक चैनल की इस सीरीज़ में तीन बार के स्वर्ण पदक विजेता निकोलो कैंप्रियानी अपने अनुभवों के ज़रिए मेहदी (Mahdi), खाउला (Khaoula) और लूना (Luna) को मानसिक और शारीरिक तौर पर तैयार कर रहे हैं।

रिफ्यूजी निशानेबाज लूना, महदी और खौला के साथ निकोलो कैंप्रीयानी
रिफ्यूजी निशानेबाज लूना, महदी और खौला के साथ निकोलो कैंप्रीयानीरिफ्यूजी निशानेबाज लूना, महदी और खौला के साथ निकोलो कैंप्रीयानी

कैंप्रियानी को बीजिंग 2008 के स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा का भी साथ हासिल है, ये दोनों ही एथलीट मिलकर एक ‘मेक ए मार्क’ प्रोजेक्ट के साथ दूसरों के लिए एक मिसाल बनते जा रहे हैं और उन्हें अब टेकिंग रेफ़्यूजी के ज़रिए काफ़ी समर्थन भी मिल रहा है।

आप कैंप्रियानी और उनकी टीम को ओलंपिक चैनल की सीरीज़ टेकिंग रेफ़्यूजी: टारगेट 2020 में फॉलो भी कर सकते हैं।

ओलंपियन और पैरालिंपियन के लिए त्योहार जैसा ऑनलाइन अनुभव

ओलंपियन और पैरालिंपियन के लिए ये ऑनलाइन अनुभव अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC), अंतर्राश्ट्रीय पैरालंपिक समिति (IPC) और Airbnb के साथ साझा कार्यक्रम का हिस्सा है। जहां 100 से ज़्यादा ओलंपियन और पैरालिंपियन ऑनलाइन अपने अनुभव साझा करते हुए दूसरों को प्रेरित करने की कोशिश करेंगे।

पांच दिन चलने वाले इस समर फ़ेस्टिवल की शुरुआत 24 जुलाई से हो चुकी है, इसी दिन जापान में इस साल ओलंपिक खेलों की शुरुआत होनी थी जिसे कोरोना वायरस (COVID-19) की वजह से एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया है।

इसके ज़रिए दुनिया भर के फ़ैन्स और युवा एथलीटों को अपने चहेते खिलाड़ियों के अनुभवों से प्रेरणा मिलेगी। इसे आप अपने घर में बैठे बैठे ऑनलाइन देख सकते हैं, जिसका दायरा 20 देशों और क्षेत्रों तक में फैला है।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!