सेल्फ़ आइसोलेशन ने खिलाड़ियों को दिया सोचने का समय 

भारतीय टेबल टेनिस सितारे शरत कमल की नज़र भविष्य पर और वहीं साथियान और फिलहाल आराम करने के मूड में हैं।

फिलहाल ओलंपिक गेम्स को स्थगित कर दिया गया है। कुछ खिलाड़ी आने वाले ओलंपिक गेम्स में अपना डेब्यू करेंगे तो किसी का आखिरी संस्करण होगा। भारतीय टेबल टेनिस स्टार अचंत शरत कमल (Achanta Sharath Kamal) भी अगले साल आखिरी बार ओलंपिक गेम्स में शिरकत करने की कोशिश करेंगे।

टोक्यो 2020 के लिए तैयारियों में जुटे शरत कमल की नज़र टोक्यो गेम्स में क्वालिफाई करने की ललक और ज़िद्द है। इसका सबूत बना ओमान ओपन, जहां उन्होंने प्रदर्शन से खिताब अपने नाम किया और ओलंपिक सीज़न की शुरुआत ज़रा जोश में की इतना ही नहीं शरत कमल का प्रदर्शन ओलंपिक टीम क्वालिफिकेशन इवेंट में भी उम्दा रहा। फिलहाल कोरोना वायरस के खलल की वजह से शरत कमल को ज़्यादा अभ्यास करने का मौका मिल गया है और वे अपने अनुभव का प्रयोग करते हुए अपने कौशल को और ज़्यादा निखारने में कामयाब भी हो सकते हैं।

गेम्स के स्थगित होने के बाद टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बात करते हुए शरत कमल ने कहा “मुझे एक बार फिर शुरू से शुरुआत करनी होगी। मैं ओलंपिक के लिए पिछले नवंबर से तैयारी कर रहा हूं और साथ ही मेरा खेल पीक पर है। खेलों के स्थगित होने के कारण मुझे बहुत सी प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेकर अपनी रैंकिंग को ऊपर रखना होगा जो कि आसान कार्य नहीं है।

साथियान गणानाशेखरन के आराम का समय

जहां सेल्फ आइसोलेशन ने शरत कमल को भविष्य के बारे में सोचने का समय दिया है वहीं साथियान गणानाशेखरन ऐसे में आराम कर रहे हैं।

भारतीय टेबल टेनिस के नए सितारे साथियान गणानाशेखरन (Sathiyan Gnanasekaran) भी इस समय अपने खेल से दूर हैं। साथियान ने बताया “जब आप लगातार खेल रहे होते हैं तो आप भविष्य के बारे में ज़्यादा बेहतर सोच सकते हैं। अब जब खेल जगत रुका हुआ है तो मेरे पास अपनी ग़लतियों को देख उन्हें सुधारने का मौका है। ओलंपिक गेम्स के स्थगित होने बाद मेरे पास बहुत समय आ गया है। फिलहाल तो मैं नेटफ्लिक्स देख कर आराम कर रहा हूं।

दोनों ही खिलाड़ियों का मानना है कि COVID-19 की वजह से गेम्स में जो विलंब आया है उस वजह से टेबल टेनिस फेडरेशन को विदेशी कोच लाने का समय मिला है।

जहां शरत कमल  सेल्फ आइसोलेशन के समय अपने भविष्य का सोच रहे हैं वहीं साथियान अपना समय आराम कर बिता रहे हैं।  फोटो क्रेडिट ITTF
जहां शरत कमल सेल्फ आइसोलेशन के समय अपने भविष्य का सोच रहे हैं वहीं साथियान अपना समय आराम कर बिता रहे हैं। फोटो क्रेडिट ITTFजहां शरत कमल सेल्फ आइसोलेशन के समय अपने भविष्य का सोच रहे हैं वहीं साथियान अपना समय आराम कर बिता रहे हैं। फोटो क्रेडिट ITTF

भारतीय टेबल टेनिस को नए कोच की ज़रूरत

भारतीय टेबल टेनिस के पास आखिरी कोच साल 2018 में आया था। वह नाम है मैसिमो कॉस्टेंटिनी जो भारतीय टेबल टेनिस को बहुत सी उंचाइयों तक ले गए हैं। शरत कमल ने आगे कहा “ITTF के पास अब समय है कि वे एक विदेशी कोच को ला सकें। हालांकि कुछ नामों को लेकर चर्चा ज़रूर हुई लेकिन अभी किसी भी निर्णय पर आने में कुछ महीने लगेंगे।

वहीं दूसरी तरफ साथियान गणानाशेखरन का मानना है कि भारत को कोच लंबे अर्से के लिए चाहिए ताकि खिलाड़ी ओलंपिक 2024 तक की तैयारी कर सकें।

उन्होंने आगे कहा “कोच को लाने का यह सही समय है लेकिन फिलहाल हमे स्थितियों के ठीक होने का इंतज़ार करना होगा। नए कोच का साथ टोक्यो गेम्स के बाद पेरिस में होने वाले गेम्स तक साथ होना चाहिए। इससे टीम और खिलाड़ियों का बहुत फायदा होगा।”

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!