टोक्यो ओलंपिक से पहले दिव्यांश सिंह पंवार ने राष्ट्रीय शूटिंग ट्रायल में किया प्रभावित

टी-2 ट्रायल में पहले पायदन पर रहे पंवार 

लेखक भारत शर्मा ·

दुनिया के नंबर 1 दिव्यांश सिंह पंवार ने रविवार को नई दिल्ली के डॉ करणी सिंह शूटिंग रेंज में नेशनल शूटिंग टी-2 ट्रायल में पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में 250.9 के स्कोर के साथ पहले स्थान पर कब्जा जमाया।

24-शॉट के फाइनल राउंड में उन्होंने अपनी प्रभावशाली शूटिंग से महाराष्ट्र के रुद्राक्ष बालासाहेब पाटिल को पीछे छोड़ दिया। पाटिल ने 249.7 का स्कोर किया था। टी-1 ट्रायल में पहले पायदान पर रहने वाले असम के हृदय हजारिका को तीसरे स्थान के साथ संतोष करना पड़ा।

जयपुर में जन्मे शूटर ने 628.7 अंक के साथ आठवें स्थान पर रहकर श्रीजॉय दत्ता से 0.1 अंक आगे रहकर फाइनल राउंड के लिए क्वालीफाई किया था।

एक अन्य युवा निशानेबाज कवि रक्षना ने वर्तमान विश्व नंबर 1 एलावेनिल वलारिवन और टोक्यो 2020 कोटा धारकों अंजुम मौदगिल और अपूर्वी चंदेला जैसे स्थापित निशानेबाजों के बीच महिलाओं की स्पर्धा में जीत हासिल की।

18 साल के पंवार टोक्यो ओलंपिक में निशानेबाजी में भारत के लिए पदक की उम्मीदों में से एक हैं। 

2019 में बीजिंग विश्व कप में रजत पदक हासिल करने के बाद किशोर ने टोक्यो 2020 के लिए क्वालीफाई किया था। उन्होंने मिश्रित टीम स्पर्धाओं में भी अपना स्थान साबित किया क्योंकि उन्होंने अंजुम मौदगिल के साथ दो विश्व कप पदक जीते।

दिव्याशं सिंह पंवार और एलावेनिल वलारिवन

पंवार ने 12 साल की उम्र में शूटिंग शुरू की और जयपुर में जंगपुरा शूटिंग रेंज में अपनी बड़ी बहन की राइफल से प्रशिक्षण लेना शुरू किया। उनकी प्रतिभा को देखते हुए उनके पिता ने उन्हें नई दिल्ली में डॉ करणी सिंह शूटिंग रेंज में दाखिला दिला दिया।

पंवार ने नई दिल्ली में दीपक कुमार के अधीन प्रशिक्षण प्राप्त किया और जल्द ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सफलता का स्वाद चखने लगे।

जर्मनी के सुहल में 2018 ISSF जूनियर विश्व कप में पंवार ने दो पदक जीते। उनका प्रभावशाली प्रदर्शन दक्षिण कोरिया के चांगवोन में 2018 ISSF वर्ल्ड शूटिंग चैंपियनशिप में जारी रहा, क्योंकि उन्होंने 10 मीटर एयर राइफल जूनियर मिक्स्ड टीम इवेंट में श्रेया अग्रवाल के साथ कांस्य जीता था।

अपने निरंतर प्रदर्शन के कारण पंवार को मई 2019 में विकासात्मक समूह से लक्ष्य ओलंपिक पोडियम योजना (TOPS) के कोर समूह में पदोन्नत किया गया था।