इलावेनिल वलारिवन ने जीता अपना पहला आईएसएसएफ वर्ल्ड कप ख़िताब

युवा वलारिवन ने जीता खिताब तो मौदगिल रहीं छठे स्थान पर और चंदेला क्वालीफाई करने में रहीं असमर्थ

लेखक जतिन ऋषि राज ·

रियो में चल रहे आईएसएसएफ वर्ल्ड कप में उम्दा प्रदर्शन करते हुए भारतीय युवा निशानेबाज़ इलावेनिल वलारिवन ने 10 मीटर एयर राइफल में ख़िताब

अपने नाम किया। 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज़ मेडल जीत चुके गगन नारंग द्वारा ट्रेनिंग लेती हुई वलारिवन ने फाइनल में शानदार खेल दिखाते हुए 251.7 अंक लेकर प्रतियोगिता स्वर्ण पलों के साथ समाप्त की।

ग्रेट ब्रिटेन की सियोनैड मैकइंटोश ने 250.6 अंकों के साथ सिल्वर अपने नाम किया तो दूसरी तरफ चीन की लिन यिंग-शिन ने 229.9 अंक प्राप्त करते हुए ब्रॉन्ज़ मेडल जीता। तीसरे स्थान पर रहीं लिन ने टोक्यो 2020 के लिए ओलंपिक कोटा भी जीता और अब वह जापान में अपना जौहर दिखाती नज़र आ सकती हैं।

चौथे स्थान पर रहकर वलारिवन ने फाइनल में प्रवेश किया और सही तकनीक का मुज़ाहिरा पेश करते हुए मेडल जीतने का विश्वास दिलाया। 5 शॉट की पहली सीरीज़ में वलारिवन का स्कोर 52.2 रहा, लेकिन दूसरी सीरीज़ में गति पकड़ते हुए उन्होंने 104.9 जैसा बड़ा स्कोर अपने नाम किया। 

हालांकि ब्रिटेन की मैकइंटोश ने दूसरी तरफ से भारतीय शूटर से कड़े सवाल पूछे लेकिन, धैर्य से खेलती वलारिवन ने इसका डटकर सामना किया और 5वीं सीरीज़ के अंत तक कुल मिलाकर 0.4 अंकों की बढ़त हासिल कर ली। अपनी लय को बरकरार रखते हुए युवा भारतीय शूटर ने अपनी उम्र और तजुर्बे के विपरीत एक बेहद दिलचस्प खेल दिखाया और जीत के साथ भारत के सिर पर एक स्वर्ण ताज सजा दिया।

मौदगिल और चंदेला की टूटी लय

वहीं दूसरी तरफ, भारतीय शूटर अंजुम मौदगिल ने आईएसएसएफ वर्ल्ड कप में निराश किया और छठे स्थान पर प्रतियोगिता समाप्त की। हालांकि क्वालिफिकेशन राउंड में मौदगिल का स्कोर 104.8, 104.7, 104.4, 104.6, 105.8 और 104.8 रहा जिस वजह से उन्होंने फाइनल में प्रवेश किया था। प्रतियोगिता में तीसरी भारतीय शूटर अपूर्वी चंदेला का प्रदर्शन भी मानों मामूली रहा। चंदेला ने प्रतियोगिता का अंत 11वें स्थान पर रह कर किया और इस तरह से वो फाइनल में क्वालीफाई करने में असमर्थ रहीं। 

ओलंपिक कोटे की बात की जाए तो एक देश ज़्यादा से ज़्यादा दो ओलंपिक कोटा स्थान ही प्राप्त कर सकता है और भारत की ओर से वलारिवन ने दूसरा ओलंपिक कोटा जीतकर ओलंपिक 2020 के लिए अपनी राह आसान कर ली है। फिलहाल 10 मीटर एयर राइफल में भारतीय खेमे में हर्षोलास का माहौल बना हुआ है।