भारतीय स्पोर्ट्स वीक: NSDAQ पर मोहन बगान और यूएस की लीग में पहुंचे भारतीय बास्केटबॉल खिलाड़ी 

लिएंडर पेस ने अपने अटलांटा के प्रदर्शन को याद किया और बॉक्सर मैरी कॉम ओलंपिक गेम्स में गोल्ड जीत कर अपने सपने को सच करना चाहती हैं। 

अब जब टोक्यो ओलंपिक गेम्स के लिए एक साल रह गया है तो ऐसे में भारतीय दिग्गज बॉक्सर मैरी कॉम (MC Mary Kom) इस चुनौती के लिए अपनी जी जान लगा रही हैं।

लंदन गेम्स में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने वाली मैरी कॉम टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफाई कर चुकी हैं लेकिन कोरोना वायरस (COVID-19) की वजह से उनके जीवन में भी भारी बदलाव देखने को मिला है। अन्य खिलाड़ियों की तरह ही मैरी को भी अभ्यास करने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बात करते हुए इस भारतीय मुक्केबाज़ ने कहा “बॉक्सिंग मेरा पेशन है और ओलंपिक में गोल्ड जेतना ही मेरा लक्ष्य और सपना है। ऐसे में मेरा फोकस मज़बूत है और कोई भी चुनौती मुझे इससे हिला नहीं सकती।”

“मैं रोज़मर्रा की ट्रेनिंग और वर्कआउट करती हूं। ओलंपिक गेम्स के लिए यह मेरी ट्रेनिंग का हिस्सा भी है।”

हिमा का लक्ष्य ओलंपिक क्वालिफ़िकेशन पर

भारतीय स्प्रिंटर हिमा दास (Hima Das) भी टोक्यो 2020 में क्वालिफाई करने पर ज़ोर डाल रही हैं और उनकी सारी मेहनत और ट्रेनिंग इस एकमात्र लक्ष्य को हासिल करने पर है। IAAF वर्ल्ड अंडर 20 चैंपियनशिप 2018 (IAAF World U20 Championships 2018) में गोल्ड मेडल जीतने वाली हिमा दास को इंजरी ने घेर लिया था लेकिन अब वह इस चुनौती से भी लड़ने के लिए तैयार हैं।

View this post on Instagram

“No fear. No limits. No excuses.” @adidas

A post shared by hima das8 (@hima_mon_jai) on

ढिंग एक्सप्रेस के नाम से मशहूर हिमा यह नहीं सोच रहीं कि उन्हें किस स्पर्धा में जाने का मौका मिलेगा लेकिन वह किसी बात कर लिए संकल्प कर रहीं हैं तो वह है टोक्यो ओलंपिक गेम्स। फिलहाल वह अपने कोच और फेडरेशन पर भरोसा कर अपने कारवां को पंख देने की कोशिश कर रहीं हैं।

मैं यहां तक केवल अपने कोच और फेडरेशन की मेहनत के बल पर पहुंची हूं। ऐसे में मुझे कोई भी इवेंट दे दो, मैं बस दौड़ना चाहती हूं और ओलंपिक गेम्स के लिए क्वालिफाई होना चाहती हूं।”

भारतीय महिला बास्केटबॉल खिलाड़ी हैं तैयार

एक सप्ताह पहले ही पंजाब के प्रिंसिपल सिंह (Princepal Singh) एनबीए जी-लीग (NBA G-League) से जुड़ गए हैं और अभी आने वाले समय में बास्केटबॉल भारतीय फैंस के लिए और भी खुशखबरियां लाने वाला है।
हरसिमरन कौर (Harsimran Kaur) और एन मेरी ज़चारिया (Ann Mary Zachariah) जो कि एनबीए अकादमी में थे अब उन्होंने यूएस स्कूल से जुड़कर बास्केटबॉल खेलने का फैसला किया है। पंजाब में सफलता पा कर हरसिमरन कौर ने यूनिवर्सिटी ऑफ़ सैन डिएगो में दाखिला लिया है और वह 2021 से अपने कारवां को आगे बढ़ाएंगी।

इसी बीच दिल्ली की एन मेरी ज़चारियाह विचिता की केंसस स्टेट लाइफ प्रेप अकादमी से जुड़ने का फैसला लिया है। यह खिलाडसंजना रमेश (Sanjana Ramesh), वैष्णवी यादव (Vaishnavi Yadav ) और ख़ुशी डोंगर (Khushi Dongre) की राह पर चल रही हैं और NBA से निकल कर यूएस में कॉलेज बास्केटबॉल खेलने की इच्छा रख रही हैं।

टाइम्स स्क्वायर पर मोहन बागान

29 जुलाई भारतीय फुटबॉल फैंस के लिए एक गर्व के रोप में आया जब न्यू यॉर्क टाइम्स स्क्वायर के एतिहासिक NASDAQ बिलबोर्ड ने भारतीय फुटबॉल क्लब मोहन बागान को दर्शाया।

यह मोहन बागान डे सलेब्राशन के तौर पर बनाया गया और 1911 में मिली IFA शील्ड की जीत के रूप में इसे याद किया गया।

ब्रिटिश शासन के दौरान भारतीय टीम ने ईस्ट यॉर्कशायर को 2-1 से मात देते हुए इस कारनामे को अंजाम दिया। उस समय वह टीम किसी भी बड़ी प्रतियोगिता को जीतने वाली पहली भारतीय फुटबॉल टीम भी बनी थी।

लिएंडर पेस ने याद किए सुनहरे पल

अटलांटा 1996 में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने वाले भारतीय टेनिस स्टार लिएंडर पेस (Leander Paes) ने अपनी जीत को याद किया। गौरतलब है कि उन्हें यह जीत हासिल किए हुए लगभग 24 साल हो गए हैं और वह इसे याद करते हुए गौरवांवित महसूस करते हैं।

इस उपलक्ष पर उन्होंने 1992 बार्सिलोना गेम्स की ओपनिंग सेरेमनी की तस्वीर शेयर की, जो कि उनका ओलंपिक का पहला संस्करण भी था।

लिएंडर पेस ने फैंस के लिए अपने मेडल जीतने वाले प्रदर्शन को ‘ग्रेट ओलंपिक मोमेंट्स’ ‘Great Olympic Moments’ पर भी याद किया और यह सीरीज़ आप ओलंपिक चैनल पर देख सकते हैं।

ओलंपिक चैनल से सप्ताह का सर्वश्रेष्ठ

हमेशा की तरह इस सप्ताह भी ओलंपिक चैनल भारतीय फैंस के लिए कुछ यादगार पल लेकर आया है।

ओलंपिक चैनेल को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में भारतीय एथलीट अंजू बॉबी जॉर्ज (Anju Bobby George) ने दिग्गज माइक पॉवेल (Mike Powell) के बारे में बात की और बताया की कैसे उन्होंने 2003 वर्ल्ड चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने के लिए प्रोत्साहन किया।

रेसलर पूजा ढांडा के लिए टोक्यो ओलंपिक गेम्स का टाइमर लग चुका है। फोटो क्रेडिट: पूजा ढांडा/ट्विटर  
रेसलर पूजा ढांडा के लिए टोक्यो ओलंपिक गेम्स का टाइमर लग चुका है। फोटो क्रेडिट: पूजा ढांडा/ट्विटर  रेसलर पूजा ढांडा के लिए टोक्यो ओलंपिक गेम्स का टाइमर लग चुका है। फोटो क्रेडिट: पूजा ढांडा/ट्विटर  

मिल्खा सिंह (Milkha Singh) को हमेशा 1960 ओलंपिक गेम्स में चौथे स्थान के लिए याद किया जाता है लेकिन भारत का यह फ़्लाइंग सिख ऑफ़ इंडिया ने भारतीय एथलेटिक्स में बहुत से एथलीटों प्रोत्साहन दिया है। उनके किए कार्य को यहां देखें।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!