वर्ल्ड 10K बेंगलुरु रेस अब होगी 22 नवंबर को आयोजित

गोल्ड-लेबल रेस इवेंट की तारीख़ को कोविड-19 महामारी के कारण दूसरी बार बदला गया है।

एशिया की एकमात्र गोल्ड-लेबल रेस टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज वर्ल्ड 10K बेंगलुरु ने नई तारीख़ों की घोषणा करते हुए कहा कि अब इसका आयोजन 22 नवंबर, 2020 को किया जाएगा।

परंपरागत रूप से हर साल मई के तीसरे रविवार को आयोजित की जाने वाली  वर्ल्ड 10K बेंगलुरु को कोरोनो वायरस (COVID-19) महामारी के कारण पहले ही आगे बढ़ा दिया गया था। अब भारत में स्थिति को देखते हुए इस आयोजन को दो महीने और आगे बढ़ाने का निर्णय लिया गया है।

रेस डायरेक्टर ह्यूज जोंस ने अपने बयान में कहा, "ये अभूतपूर्व समय हैं और दुनिया ने इस तरह की महामारी के खिलाफ लंबे समय तक ऐसी लड़ाई पहले कभी नहीं देखी है।" जोंस ने बताया कि “किसी भी इवेंट को स्थगित करना आसान फैसला नहीं होता। हम भाग्यशाली हैं कि सभी हितधारक इस नई तारीख के साथ बोर्ड के साथ थे और उन्होंने भी इस बात को माना कि धावकों की सुरक्षा सबसे पहले आती है।”

बयान में यह भी कहा गया है कि जिन प्रतिभागियों के आवेदन पहले ही पंजीकृत हो चुके थे, उनकी स्थगित तारीख को आगे बढ़ाया जाएगा, जबकि नए लोग 8 सितंबर को अपना नाम दर्ज करा सकते हैं।

इस दौरान बताया गया है कि एयरटेल दिल्ली हाफ मैराथन (Airtel Delhi Half Marathon) 20 दिसंबर 2020 को आयोजित होगी। वहीं टाटा स्टील कोलकाता 25K (Tata Steel Kolkata 25K) 17 जनवरी 2017 और टाटा मुंबई मैराथन (Tata Mumbai Marathon) का आयोजन 17 जनवरी 2021 को होगा।

टीसीएस वर्ल्ड 10K बेंगलुरु एसोसिएशन ऑफ़ इंटरनेशनल मैराथन एंड डिस्टेंस रेस (AIMS) से प्रमाणित रोड इवेंट है। यह साल 2008 में शुरू हुई थी और इस इवेंट में कार्ल लुईस (Carl Lewis), मैरी-जोस पेरिक (Marie-Jose Perec) और माइक पॉवेल (Mike Powell ) कई सालों से ब्रांड एंबेसडर के रूप में जुड़े हुए हैं।

2019 के सीजन में केन्या के एग्नेस तिरोप (Agnes Tirop) ने इतिहास रचा था। वह अपने वर्ल्ड 10K बेंगलुरू खिताब की रक्षा करने वाली पहली महिला बनीं थीं। जबकि 20 वर्षीय इथोपियन की अंडलाम बेलिहू (Andamlak Belihu) ने पुरुषों की दौड़ में अपनी पहली जीत दर्ज की थी।

वही भारतीय एलीट में संजीवनी जाधव( Sanjivani Jadhav) ने महिलाओं की दौड़ में लगातार दूसरे वर्ष के लिए शीर्ष स्थान हासिल किया। पारुल चौधरी (Parul Chaudhary) दूसरे और चिंता यादव (Chinta Yadav) तीसरे स्थान पर रहीं थीं।

कर्ण सिंह (Karan Singh) ने पुरुषों के भारतीय एलीट वर्ग में जीत हासिल की और रेस के जीत के प्रबल दावेदार लक्ष्मण गोविंदन (Lakshmanan Govindan) और ओलंपियन अविनाश सेबल (Avinash Sable) को पीछे छोड़ते हुए सभी को आश्चर्य चकित कर दिया।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!