कोच आदित्य सचदेवा के अनुसार शीर्ष 100 टेनिस खिलाड़ियों में शामिल हैं युकी भांबरी

पूर्व नंबर एक भारतीय सिंगापुर में ATP 250 इवेंट में दो साल बाद कोर्ट में करेंगे वापसी

लेखक भारत शर्मा ·

पूर्व नंबर एक भारतीय टेनिस खिलाड़ी युकी भांबरी चोट से उबरने के बाद फिर से वापसी के लिए तैयार हैं। इसी बीच लंबे समय से उनके कोच रहे आदित्य सचदेवा का मानना ​​है कि 28 वर्षीय भांबरी पुरुष टेनिस के शीर्ष 100 खिलाड़ियों में शामिल हैं।

पूर्व जूनियर ग्रैंड स्लैम चैंपियन भांबरी दो साल से अधिक समय बाद सिंगापुर में सोमवार से शुरू होने वाले ATP 250 इवेंट में बहुप्रतीक्षित वापसी करेंगे। वह इस इवेंट के मुख्य ड्रॉ में शामिल हैं। इसमें मारिन सिलिक, इवो कार्लोविक और एड्रियन मन्नारिनो जैसे खिलाड़ी शामिल हैं, जिन्होंने 127 की संरक्षित रैंकिंग हासिल की है।

भांबरी ने अपना आखिरी प्रतिस्पर्धी मैच अक्टूबर 2018 में एंटवर्प ओपन में खेला था। वह गुरुवार को सिंगापुर के लिए रवाना होंगे।

भांबरी ने ओलंपिक चैनल को बताया, "यह अलग है और एक वापसी है। शायद थोड़ा मुश्किल होने जा रहा है। यह महामारी के कारण आदर्श स्थिति नहीं है। मैं यह नहीं भूल पाया कि खेलने का क्या अहसास होता है और टेनिस बॉल हिट करना कितना जबरदस्त होता है।"

पूर्व नंबर एक भारतीय ने स्वीकार किया कि ऐसा समय भी आया था जब उनकी निराशा बहुत बढ़ गई और उन्होंने खेल को अलविदा कहने का मन बना लिया था।

भांबरी ने कहा, "मेरे पास इसे फिर से हासिल करने, घुटने को बेहतर तरीके से मजबूत बनाने, वापसी का प्रयास करने और अपने करियर को फिर से गति देने का विकल्प था। इसके अलावा खेल को छोड़ देने, वहीं रुक जाने और कुछ नहीं करने का भी विकल्प था, लेकिन मुझे लगता है कि मेरे पास हासिल करने के लिए बहुत कुछ है।"

उन्होंने आगे कहा, "ऐसा समय भी आया था जब मुझे लगा कि मैं वापसी नहीं कर पाऊंगा, क्योकि मैं काफी तेजी ठीक नहीं हो पा रहा था। मुझे लगता है कि इन विचारों का आना सामान्य है क्योंकि आपको यह पता लगाना है कि आप अपने जीवन के साथ क्या करना चाहते हैं। बस टेनिस सर्किट के आसपास होने के नाते, कोर्ट पर होने के नाते, थोड़ा खेलने के लिए, भले ही मैं सिर्फ खड़ा-खड़ा मार रहा था। इसने मुझे और अधिक मेहनत करने और हार नहीं मानने के लिए प्रेरित किया।"

जब से भांबरी ने 1991 (लिएंडर पेस, US ओपन) के बाद 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन में भारत का पहला जूनियर एकल खिताब जीता तो उन्हें भारतीय टेनिस में बड़ी रेस का घोड़ा माना जाने लगा था, लेकिन उनका करियर लगातार चोटों से जूझता रहा।

इस भारतीय दिग्गज खिलाड़ी ने चोट से दूर रहने के दौरान सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया था। इसके चलते साल 2018 में वह एटीपी रैंकिंग में 83 के उच्च स्तर तक पहुंचे और सभी चार ग्रैंड स्लैम खेले। पेट की चोट से उनका फ्रेंच ओपन अभियान कमजोर पड़ गया था, जबकि भांबरी को दाहिने घुटने में चोट के कारण सत्र को बीच में छोड़ना पड़ा था।

सिंगापुर में ATP 250 इवेंट में वापसी के लिए तैयार है युकी भांबरी

सचदेवा ने कहा, "हमने कभी नहीं सोचा था कि चोट के कारण भांबरी को लंबे समय तक खेल से दूर रहना पड़ेगा। (हम) उम्मीद कर रहे हैं कि वह चोट से मुक्त रहे, क्योंकि अभ्यास में खेलना और मैच में खेलना दो अलग चीजें हैं। वह बहुत प्रशिक्षण ले रहें है। मैं कहूंगा कि शारीरिक रूप से वह अब तक की सबसे अच्छी स्थिति में हैं।"

भांबरी ने पहली बार अक्टूबर 2015 में शीर्ष 100 में प्रवेश किया था और संभवतः वह इसे फिर से हासिल कर लेंगे। वह पहले भी सफल वापसी कर चुके हैं। 2017 में उन्होंने टेनिस एल्बो के बाद वापसी की और 474वें स्थान से शुरुआत करने के बाद दुनिया के शीर्ष 116 पर पहुंच गए थे।

सचदेवा ने कहा, "हम जिस प्रतिभा के बारे में बात कर रहे हैं वह अभी भी शीर्ष-100 में हैं। यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि वह कैसे चोट मुक्त रह सकते हैं। जितना अधिक वह चोटिल हुए बिना खेल सकता है, मुझे यकीन है कि परिणाम आने शुरू हो जाएंगे, क्योंकि वह बहुत अच्छे खिलाड़ी हैं।"

भारतीय स्टार की इंस्टाग्राम फीड अब आयरनमैन वीडियो की एक अच्छी तरह से क्यूरेटेड सूची की तरह लगती है। कोर्ट पर प्रतिस्पर्धा करने में असमर्थ भांबरी ने एक बार फिर से शारीरिक रूप से मांग वाले टेनिस दौरे की कठोरता के लिए अपने शरीर का निर्माण करने के लिए घंटों पसीना बहा रहे हैं और अभ्यास कर रहे हैं।

ऑफ सीजन के दौरान भांबरी लॉकडाउन खत्म होने के साथ ही भारतीय डबल्स स्टार दिविज शरण के साथ अभ्यास में वापस आ गए थे। भले ही भांबरी एक दौरे की वापसी कर रहे है और अब बहुत अलग दिख रहे हैं। कोरोना महामारी के प्रोटोकॉल को देखते हुए वह फिर से अपने तरीके से लड़ने के लिए तैयार है।